महिलाओं के यौन उत्पीड़न से जुड़े ‘मी टू’ अभियान को सोशल मीडिया पर ग़लत दिशा की ओर ले जाने की कोशिश की जा रही है. इसके तहत पूर्व क्रिकेटर व दिग्गज बल्लेबाज़ राहुल द्रविड़ का एक पुराना वीडियो भ्रामक तरीक़े से वायरल किया गया है.

इस वीडियो में राहुल द्रविड़ एक महिला के साथ दिख रहे हैं. देखने पर लगता है कि महिला कोई पत्रकार हैं और भारतीय क्रिकेटर का इंटरव्यू ले रही है. दो मिनट 20 सेकेंड के इस वीडियो में एक मिनट तक सब सामान्य चलता दिख रहा है. लेकिन उसके बाद महिला अचानक द्रविड़ के पास आकर बैठ जाती है. कुछ सेकेंडों की बातचीत के बाद वह राहुल द्रविड़ का हाथ पकड़ लेती है. उसके बाद द्रविड़ की असहजता साफ़ देखी जा सकती है. वे कुछ समझ पाते उससे पहले एक और आदमी बाहर से आता है. उसके बाद राहुल द्रविड़ उस आदमी को किसी तरह की सफ़ाई देते दिख रहे हैं.

लेकिन यह पता नहीं चल पाता कि आख़िर कमरे में हुआ क्या, क्योंकि वीडियो में दिख रहे लोगों की आवाज़ें सुनाई नहीं देतीं. इसकी जगह बैकग्राउंड में नाटकीय संगीत चल रहा है जो वीडियो में दिख रही घटना को गंभीर बनाने का काम करता है. इस आधार पर वीडियो को शेयर करने वाले ट्रॉलीवुड नाम के फ़ेसबुक पेज ने इसे ‘राहुल द्रविड़ का मी टू’ (यानी यौन उत्पीड़न के नाम पर उन्हें बदनाम करने की कोशिश) बता दिया है. साथ ही उसने ‘पुरुषों को बचाओ’ (#SaveMen) और ‘पुरुषों के लिए न्याय’ (#JusticeForMen) जैसे हैशटेग चला दिए हैं.

सोमवार को शेयर किए गए इस वीडियो को अब तक सवा तीन लाख से ज़्य़ादा लोग देख चुके हैं और यह तेज़ी से फैल रहा है. हालांकि इसमें जो कुछ भी दिखाया गया है असल में वह एक प्रैंक शो का हिस्सा था. आपने ‘एमटीवी बकरा’ का नाम तो सुना ही होगा. एमटीवी पर सालों चले इस प्रोग्राम में लोगों से मज़ाक़ किया जाता था. कई बार बड़ी हस्तियों के साथ भी मज़ाक़ किया जाता था. राहुल द्रविड़ को भी एक बार ‘बकरा’ बनाया गया था.

यह नहीं पता कि वीडियो कितना पुराना है, लेकिन वीमियो.कॉम पर इसे आठ साल पहले डाला गया था. अब इस बकरा एपिसोड में क्या हुआ था यह आप वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं.