केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा है कि अमृतसर ट्रेन हादसे के मामले में रेल ड्राइवर के खिलाफ विभाग की तरफ से कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं कही जाएगी. डेक्कन क्रॉनिकल के मुताबिक मनोज सिन्हा का यह भी कहना है कि इस दुखद दुर्घटना में ड्राइवर और विभाग की तरफ से नियमों की कोई अनेदखी नहीं की गई थी. इसके साथ ही ड्राइवर और विभाग के बचाव में उन्होंने यह भी कहा है कि रेलवे की तरफ से पहले से ही रेल ट्रेकों के आसपास कोई आयोजन न करने की सलाह जारी है.

इससे पहले शुक्रवार को अमृतसर में जोड़ा फाटक के पास दशहरे के मौके पर रावण दहन का कार्यक्रम देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग जुटे थे. उस दौरान अनेक लोग रेलवे ट्रैक पर भी खड़े थे. इसी बीच ट्रैक से गुजरती हुई एक तेज रफ्तार ट्रेन ने करीब 61 लोगों को कुचल दिया था जिससे उनकी मौत हो गई थी. इस हादसे में 72 लोगों के घायल होने की खबर भी आई है.

उधर, इस हादसे के बाद रेल ड्राइवर से हुई पूछताछ में रेल विभाग ने ड्राइवर की कोई गलती नहीं पाई है. इसके साथ ही पंजाब में फिरोजपुर के डिवीजनल रेल मैनेजर विवेक कुमार ने जानकारी दी है कि वह ट्रेन 91 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही थी, और रेलवे ट्रैक पर बड़ी संख्या में लोगों को देखने के बाद ड्राइवर ने फौरन ट्रेन की रफ्तार कम करके 68 किलोमीटर प्रतिघंटा कर दी थी. लेकिन घुमावदार ट्रैक की वजह से ड्राइवर ट्रेन की रफ्तार को इतना कम नहीं कर पाया जिससे कि हादसा टल जाता.