‘शिव सेना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से डरी हुई है.’  

— असदुद्दीन ओवैसी, आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख

असदुद्दीन ओवैसी का यह बयान शिव सेना के मुखपत्र सामना में उनके खिलाफ लिखे गए एक लेख को लेकर आया है. असदुद्दीन ओवैसी का यह भी कहना है कि शिव सेना ने अपनी ‘कायरता’ छुपाने के लिए अपने अखबार में लेख लिखने का नया चलन बना लिया है. उनके मुताबिक शिव सेना को केंद्र की नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र की देवेंद्र फणनवीस सरकार से इस्तीफा देने के बाद ही कुछ बातें करनी चाहिए. इससे पहले शिव सेना ने असदुद्दीन ओवैसी पर राजनीतिक फायदे के लिए मुसलमानों की भावनाएं भड़काने का आरोप लगाया था.

‘सबरीमला मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागतयोग्य है, पर मंदिरों की परंपराओं का सम्मान भी जरूरी है.’

— रजनीकांत, फिल्म अभिनेता

रजनीकांत ने यह बात चेन्नई में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. उनके मुताबिक हर मंदिर की अपनी कुछ खास परंपराएं और रीति-रिवाज होते हैं जिनमें किसी का ‘हस्तक्षेप’ नहीं होना चाहिए. पुरुषों के समान महिलाओं के लिए बराबरी के अधिकारों की बात करते हुए रजनीकांत का यह भी कहना था, ‘हर किसी को सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन करना चाहिए. साथ ही धर्म और परंपराओं जैसे संवेदनशील मुद्दों को लेकर अतिरिक्त सावधानी भी बरती जानी चाहिए.’


‘तेलंगाना में अगर कांग्रेस की सरकार बनी तो किसानों के दो लाख रुपये तक के कर्ज माफ कर दिए जाएंगे.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात शनिवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्य के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर राज्य के किसानों की अनदेखी करने के अलावा उन पर झूठे वादे करने का आरोप ​भी लगाया. इस मौके पर राहुल गांधी ने यह भी कहा कि तेलंगाना में परिवर्तन लाने के लिए राज्य की सत्ता से केसीआर को बेदखल करना जरूरी है.


‘अमृतसर हादसे के मामले में ट्रेन ड्राइवर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी.’  

— मनोज सिन्हा, केंद्रीय रेल राज्य मंत्री

मनोज सिन्हा ने यह बात ट्रेन ड्राइवर के बयान और उसकी तरफ से किए गए नियमों के पालन को देखते हुए कही है. उनका यह भी कहना है कि इस दुखद दुर्घटना में ड्राइवर की कोई गलती नहीं थी. साथ ही रेलवे की तरफ से पहले से ही पटरियों के आसपास कार्यक्रमों के आयोजन न किए जाने की सलाह जारी है. इससे पहले शुक्रवार को अमृतसर में एक रेल दुर्घटना में 61 लोगों की मौत हो गई थी. मनोज सिन्हा समेत अनेक दलों के नेताओं ने इस दुर्घटना को लेकर राजनीति न किए जाने की अपील भी की है.