‘प्रदर्शनकारियों के विरोध की वजह से महिलाओं को सबरीमला मंदिर में दर्शन किए बगैर ही लौटना पड़ा.’  

— पिनारायी विजयन, केरल के मुख्यमंत्री

पिनारायी विजयन का यह बयान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा सबरीमला मंदिर में हर उम्र की महिलाओं के प्रवेश संबंधी फैसला सुनाए जाने का सम्मान करते हुए केरल सरकार ने जरूरी प्रबंध कर दिए थे. लेकिन आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने बीते कुछ दिनों में इस मुद्दे पर खूब हल्ला मचाया और सबरीमला मंदिर को लड़ाई के मैदान में तब्दील कर दिया.

‘वर्तमान परिस्थितियों के देखते हुए मुझे नहीं लगता कि 2019 के चुनाव के लिहाज से विपक्ष का महागठबंधन बन पाएगा.’

— शरद पवार, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष

शरद पवार ने यह बात मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान पूछे गए सवाल के जवाब में कही. उन्होंने यह भी कहा कि आगामी आम चुनाव में किसी एक पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलेगा. शरद पवार के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को केंद्र की सत्ता से हटाने के लिए कांग्रेस को विपक्षी दलों का महागठबंधन बनाने के बजाय हर राज्य में वहां के क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन करना चाहिए. ऐसा होने से राज्यों में भाजपा कमजोर पड़ेगी और भाजपा विरोधी दलों की जीत होगी.


‘हम तो हमेशा पार्टी और परिवार में एकता चाहते थे पर मुझे और मुलायम सिंह यादव को उचित सम्मान नहीं मिला.’  

— शिवपाल सिंह यादव, समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता

शिवपाल सिंह यादव ने यह बात मंगलवार को लखनऊ में अपनी नई पार्टी के नाम की घोषणा करते हुए कही. उन्होंने बताया कि उनकी पार्टी का नाम ‘प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया’ (पीएसपीएल) रखा गया है. इस मौके पर शिवपाल सिंह यादव ने अपने समर्थकों को चापलूसी न करने और कुछ भी गलत होने पर पार्टी के ऊपरी नेताओं तक बात पहुंचाने की सलाह भी दी. इसके साथ ही केंद्र व राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी और वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) की वजह से व्यापारियों और अर्थव्यवस्था की कमर टूट गई है.


‘बीते चार महीनों के दौरान जम्मू-कश्मीर की स्थितियां बेहतर हुई हैं.’  

— राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री

राजनाथ सिंह ने यह बात मंगलवार को श्रीनगर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. उन्होंने यह भी कहा कि हाल में हुए शहरी निकाय चुनाव के दौरान किसी तरह की कोई हिंसक घटना नहीं हुई और इसके अलावा बीते कुछ समय में पत्थरबाजी की घटनाओं में भी कमी आई है. इसके साथ ही राजनाथ सिंह ने राज्य के दलों से आगामी पंचायत चुनाव में हिस्सा लेने की अपील करते हुए कहा, ‘लोकतांत्रिक तरीकों से बड़ी से बड़ी समस्याओं को हल किया जा सकता है. जो लोग लोकतंत्र में यकीन नहीं रखते वे आम लोगों के हिमायती भी नहीं हो सकते.