कार्यस्थलों पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न को लेकर केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. उसने इस मामले पर एक मंत्री समूह यानी जीओएम का गठन किया है. ये समूह कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न को रोकने और इससे निपटने के लिए बना कानूनी और संस्थानिक ढांचा मजबूत करने के उपाय सुझाएगा. इस मंत्री समूह की अगुवाई गृह मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे. इसमें सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को भी शामिल किया गया है.

पिछले कुछ दिनों में कई चर्चित अभिनेताओं और पत्रकारों पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं. ऐसे ही आरोपों के चलते विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर को पद से इस्तीफा भी देना पड़ा था. उन पर 10 से ज्यादा महिलाओं ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.