जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राज्य में सरकारी कर्मचारियों और भूतपूर्व कर्मचारियों के लिए शुरू की गई सामूहिक स्वास्थ्य बीमा योजना को रद्द कर दिया है. इस विवादास्पद बीमा योजना का ठेका अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस जनरल इंश्योरेंस लिमिटेड को दिया गया था. जी न्यूज से बात करते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा कि इसकी टेंडर प्रक्रिया में भ्रष्टाचार हुआ है और जांच के बाद इस योजना को रद्द कर दिया गया है. ग्रेटर कश्मीर के मुताबिक बीमा योजना रद्द किए जाने की आधिकारिक सूचना कुछ दिनों में जारी कर दी जाएगी.

अगस्त माह में जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल पद की शपथ लेने के एक महीने के बाद सत्यपाल मलिक ने मुख्यमंत्री सामूहिक स्वास्थ्य बीमा योजना को लागू करने की अनुमति दी थी. इसका ठेका रिलायंस जनरल हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को दिया गया था. इसके तहत मौजूदा कर्मचारियों को 8,777 रुपये और पूर्व कर्मचारियों को 22,229 रुपये का वार्षिक प्रीमियम देना था. इस योजना की शुरुआत में भी विपक्षी दलों ने रिलायंस को ठेका देने में धांधली होने का आरोप लगाया था. यहां तक कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी जम्मू और कश्मीर में अनिल अंबानी की कंपनी को ठेका दिए जाने पर केंद्र सरकार को निशाना बनाया था. उधर, इस मामले पर विपक्षी दलों के आरोपों को खारिज करते हुए रिलायंस का कहना था कि उसे ठेका निष्पक्ष टेंडर प्रक्रिया के बाद ही मिला है.