मुंबई पर 2008 में हुए 26/11 के आतंकी हमले के मुख्य साज़िशकर्ता हाफिज़ सईद के संगठनों पर पाकिस्तान में अब कोई प्रतिबंध नहीं रहा. ख़बरों के मुताबिक इस प्रतिबंध के बाबत पाकिस्तानी राष्ट्रपति की ओर से जारी अध्यादेश रद्द हो चुका है.

पीटीआई के अनुसार इस साल फरवरी में ही पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने अध्यादेश जारी किया था. इसमें आतंकवाद निरोधक कानून-1997 को संशोधित किए जाने का प्रावधान था. इस संशोधन के जरिए सईद के संगठन- फलाह-ए-इंसानियत (एफआईएफ) और जमात-उद-दावा (जेयूडी) को प्रतिबंधित संगठन मान लिया गया था. लेकिन इस अध्यादेश की छह महीने की समयावधि बीत जाने के बाद भी पाकिस्तान सरकार ने न तो इसे बढ़ाया और न ही इस बाबत संसद से संशोधित विधेयक पारित कराया.

लिहाज़ा राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश ख़ुद-ब-ख़ुद रद्द हो चुका है. पाकिस्तानी अख़बार डॉन के मुताबिक सईद की ओर से इस्लामाबाद उच्च न्यायालय में इसी गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान यह जानकारी दी गई है. सईद ने अपने संगठनों पर प्रतिबंध लगाए जाने से संबंधित सरकारी अध्यादेश को अदालत में चुनौती दी थी. सईद आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का सह-संस्थापक भी है. इसी संगठन ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई में आतंकी हमला किया था. इस हमले में 166 लोग मारे गए थे.