मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा चुनाव का प्रचार खत्म होने से पहले ही अपनी ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ रद्द कर दी है. इस यात्रा को लेकर उन्होंने काफी ज्यादा प्रचार किया था. न्यूज18 की खबर के मुताबिक गुरुवार को उन्होंने बिना कोई कारण बताए इसे वापस ले लिया. उनके इस कदम पर भाजपा ने कहा कि वे बाकी के चुनाव क्षेत्रों में सार्वजनिक सभाओं के जरिए प्रचार करेंगे.

शिवराज चौहान ने बीती 14 जुलाई को इस यात्रा की शुरुआत की थी. उनके वाहन रूपी ‘रथ’ को चुनाव प्रचार अभियान तक राज्य के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों से होकर गुजरना था. लेकिन 187 चुनाव क्षेत्रों का दौरा करने के बाद ही यह यात्रा समाप्त कर दी गई. उनके इस फैसले पर भाजपा के उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद निकाली गई ‘अटल अस्थि यात्रा’ के चलते शिवराज की यात्रा बाधित हुई थी. प्रभात झा के मुताबिक कुछ त्यौहारों की वजह से भी यात्रा प्रभावित हुई थी. वहीं, जब भाजपा के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी से पूछा गया कि क्या चुनाव आयोग के किसी निर्देश के बाद यात्रा रोकी गई तो उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह रणनीतिक फैसला है.

उधर, विरोधी दल कांग्रेस के नेता और सांसद कमलनाथ का दावा है कि शिवराज चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा को जनता का समर्थन नहीं मिला. उन्होंने कहा कि जनता का चौहान से मोहभंग हो गया है, इसलिए मजबूरी में उन्हें यात्रा को तय समय से पहले ही रद्द करना पड़ा.