आगामी आम चुनाव के दौरान बिहार में सीटों के बंटवारे को लेकर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव के बीच आज दिल्ली में एक बैठक हुई है. एनडीटीवी ने इस बैठक के हवाले से बताया है कि 2019 के लोक सभा चुनाव के दौरान भाजपा ने रालोसपा को दो सीटों पर चुनाव लड़वाने की पेशकश की है.

उधर इस बैठक के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने दिल्ली स्थित अपने आवास पर प्रेस वार्ता की जिसमें उन्होंने कहा, ‘बिहार में सीटों के बंटवारे पर अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है. साथ ही किस पार्टी को कितनी सीटें दी जाएंगी इसका निर्णय अगले चरण की बैठक में किया जाएगा.’ इसके साथ कुशवाहा का यह भी कहना था कि उनकी पार्टी सम्मानजनक सीटों की उम्मीद करती है और जरूरत पड़ी तो वे इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी मुलाकात करेंगे. इस मौके पर उपेंद्र कुशवाहा ने यह भी कहा कि अगले महीने होने वाले मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी 66 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के प्रमुख नीतीश कुमार ने बीते हफ्ते एक संयुक्त प्रेस वार्ता में आगामी लोकसभा के चुनाव के दौरान बिहार में बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी. तब दोनों नेताओं ने रालोसपा व रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (जेडीयू) को सम्मानजनक सीटें दिए जाने की बात भी कही गई थी.

उस घोषणा के कुछ ही देर बाद उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव के साथ मुलाकात हुई थी. तब ऐसी अटकलें लगनी शुरू हुई थीं कि उपेंद्र कुशवाहा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का साथ छोड़कर आरजेडी के साथ गठजोड़ कर सकते हैं. हालांकि उन अटकलों पर विराम लगाते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा था कि आगामी आम चुनाव के दौरान उनकी पार्टी एनडीए के साथ ही रहेगी और वे नरेंद्र मोदी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनते हुए देखना चाहते हैं.