जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी मिली है. यहां मंगलवार को हुई एक मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अज़हर का भतीजा मोहम्मद उस्मान मारा गिराया गया है. घाटी में तैनात एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने इसे ‘इस साल की सबसे बड़ी सफलता’ बताया है. ख़बरों के मुताबिक मुठभेड़ दक्षिण कश्मीर के त्राल जिले में हुई थी.

बताया जाता है कि मोहम्मद उस्माद 10 साल से कश्मीर घाटी में स्नाइपर (घात लगाकर निशाना लगाने वाले) हमलावरों के समूह की अगुवाई कर रहा था. वह मसूद अज़हर के बड़े भाई इब्राहिम का बेटा था. इब्राहिम वह शख़्स है जो 1999 में इंडियन एयरलाइंस की उड़ान आईसी-814 के अपहरण में शामिल रहा है. इस विमान अपहरण के जरिए उसने अपने भाई मसूद अज़हर को भारत की ग़िरफ़्त से आज़ाद कराया था. ख़बरों की मानें तो उस्मान अभी दो सप्ताह पहले ही फिर सक्रिय हुआ था.

कहा जाता है कि उसने चार सदस्यों वाला स्नाइपर सैल बनाया था. इस प्रकोष्ठ के दो अन्य सदस्य भी मंगलवार को हुई मुठभेड़ में मारे गए हैं. वैसे सूत्रों की मानें तो सिर्फ यह दो-तीन ही नहीं घाटी में इस तरह के आधे से ज़्यादा स्नाइपर सैल नष्ट किए जा चुके हैं. हालांकि सुरक्षा एजेंसियां इस सफलता के बावज़ूद पूरी सावधानी बरत रही हैं. उस्मान के मारे जाने के बाद सभी सुरक्षा प्रतिष्ठानों को सचेत कर दिया गया है. आशंका किसी बड़े ज़वाबी हमले की है. उस्मान का छोटा भाई उमर भी बीती जुलाई से घाटी में सक्रिय है.