केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के लिए आर्थिक मोर्चे पर अच्छी ख़बर आई है. इसके मुताबिक भारत में कारोबार करना (ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस) अब और आसान हो गया है. इस मामले में भारत ने 23 सीढ़ियों की छलांग लगाकर दुनिया में 77वां स्थान हासिल किया है. पिछले साल भारत इस सूची में 100वें पायदान पर था.

ख़बरों के मुताबिक विश्व बैंक की ओर से जारी ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस की रैंकिंग में भारत को यह स्थान मिला है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस उपलब्धि पर खुशी जताई है. साथ ही कहा है, ‘2014 में भारत 142वें स्थान पर था. इस बार 77 पर पहुंचा है. यह प्रगति गौर करने लायक है.’ विश्व बैंक की इस सूची में 190 देश शामिल हैं. भारत की ताज़ा रैकिंग दक्षिण एशिया के देशों में सबसे अव्वल और ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) देशों में तीसरे नंबर पर है. दक्षिण एशिया में पहली बार भारत को सर्वोच्च स्थान मिला है.

ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस के मापदंडाें के हिसाब से देखें तो भारत को सबसे ज़्यादा तरक्की कंस्ट्रक्शन परमिट जारी करने के मामले में मिली है. सरकार ने इस क्षेत्र में सरकारी अवरोधों को तेजी से कम किया है. इससे भारत इस क्षेत्र विशेष में 129वें से 52वें स्थान में पहुंचा है. इसके अलावा तीन अन्य संकेतकों (बिजली की उपलब्धता, जमा धन और अल्पसंख्यक निवेशकों की सुरक्षा) के मामले में भी भारत दुनिया के शीर्ष 25 देशों में है. विश्व बैंक ने इस बार ईज़ ऑफ डूइंग के मामले में भारत को दुनिया सबसे ज़्यादा प्रगति करने वाले देशों में भी शामिल किया है.