उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने अयोध्या मामले में ‘राम के साथ’ होने की बात कही है. अपर्णा यादव चाहती हैं कि अयोध्या में राम मंदिर बने. हालांकि उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला है कि मामले की सुनवाई जनवरी में होगी, इसलिए इंतजार किया जाना चाहिए.

पीटीआई की खबर के मुताबिक यह पूछे जाने पर कि क्या मस्जिद नहीं बननी चाहिए, अपर्णा ने कहा, ‘मैं तो मन्दिर के पक्ष में हूं, क्योंकि रामायण में भी राम जन्मभूमि का उल्लेख आता है.’ वहीं, जब यह पूछा गया कि क्या आप भाजपा के साथ हैं तो अपर्णा बोलीं, ‘मैं राम के साथ हूं.’

अपर्णा यादव ने शिवपाल यादव के सपा से अलग होने पर भी बात की. उन्होंने स्वीकार किया कि शिवपाल के अलग होने से 2019 के लोकसभा चुनाव में असर पड़ेगा. अपर्णा ने कहा कि अगर उन्हें चुनाव लड़ने का मौका मिला तो वे अपने चाचा शिवपाल और मुलायम सिंह यादव को चुनेंगी.

मुलायम सिंह की छोटी बहू के मुताबिक पारिवारिक खींचतान के चलते 2017 का विधानसभा चुनाव प्रभावित हुआ था और 2019 के चुनाव में भी इसका असर जरूर पड़ेगा क्योंकि पार्टी को मजबूत करने में शिवपाल का योगदान कम नहीं है. उन्होंने कहा कि सपा मजबूत करने में शिवपाल यादव ने काफी मेहनत की है.