केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने रविवार को कहा कि हिंदू दुनिया में सर्वाधिक सहिष्णु लोग हैं लेकिन अयोध्या में राम मंदिर की परिधि में मस्जिद निर्माण की बात उन्हें असहिष्णु बना सकती है. इसके साथ ही उमा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपने साथ अयोध्या में मंदिर निर्माण की आधारशिला रखने के लिए आमंत्रित किया और कहा कि वह ऐसा करके अपनी पार्टी के ‘पापों का प्रायश्चित’ कर लेंगे.

पीटीआई को दिए एक साक्षात्कार में उमा ने कहा, ‘ हिंदू विश्व में सबसे सहिष्णु लोग हैं. मैं सभी राजनीतिज्ञों से अपील करती हूं, कृपया अयोध्या में भगवान राम के जन्मस्थान के बाहरी दायरे में एक मस्जिद निर्माण की बात करके उन्हें असहिष्णु न बनायें.’ उन्होंने कहा कि जब पवित्र मदीना नगर में एक भी मंदिर नहीं हो सकता या वेटिकन सिटी में एक भी मस्जिद नहीं हो सकती तो अयोध्या में किसी मस्जिद की बात करना अनुचित होगा. उन्होंने अयोध्या विवाद को आस्था नहीं बल्कि जमीन का विवाद बताया और कहा, ‘अब यह मात्र जमीन विवाद का एक मामला है, आस्था का नहीं है. यह तय है कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है.’

1990 के दशक में राम जन्मभूमि आंदोलन में हिस्सा ले चुकीं उमा भारती ने कहा कि वे राममंदिर निर्माण को लेकर पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं.उन्होंने कहा, ‘ यदि वे कहें कि राममंदिर का निर्माण केवल मेरे मृत शरीर पर होगा तो वह भी स्वीकार है.’ उन्होंने इस मुद्दे का अदालत के बाहर समाधान किए जाने पर जोर दिया और राहुल गांधी, समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा नेता मायावती और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी सहित सभी राजनीतिक नेताओं से इसका समर्थन करने का आग्रह किया.