इलाहाबाद और फैजाबाद के बाद अब अहमदाबाद का नाम भी बदला जा सकता है. गुजरात सरकार ने कहा है कि अगर लोगों का समर्थन मिला और कोई कानूनी अड़चन नहीं आई तो वह अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती करने के लिए तैयार है. राज्‍य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि अहमदाबाद के लोगों को कर्णावती नाम पसंद है. उन्होंने कहा कि लंबे समय से अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती किए जाने की मांग उठ रही है.

अहमदाबाद भारत का पहला शहर है जिसे यूनेस्को ने ‘विश्‍व विरासत’ का दर्जा बता रहा है. इतिहास बताता है कि यह इलाका 11वीं सदी में बसना शुरू हुआ. उस समय इसे अशवाल कहा जाता था. चालुक्‍य शासक कर्ण ने अशवाल के भील शासक को युद्ध में हराकर साबरमती नदी के किनारे कर्णावती शहर बसाया था. बाद में सुल्‍तान अहमद शाह ने 1411 ईस्‍वी में कर्णावती के पास एक नए शहर की नींव रखी और इसका नाम अहमदाबाद रखा.

उधर, कांग्रेस ने अहमदाबाद का नाम बदले जाने के ऐलान के बाद भाजपा सरकार पर निशाना साधा है. पार्टी ने कहा है कि यह चुनावी तिकड़म से ज्‍यादा कुछ नहीं है. इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या किए जाने की घोषणा की थी. हाल ही में उसने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने का ऐलान किया था.