अमेरिका के मध्यावधि चुनाव में विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी ने कांग्रेस (अमेरिकी संसद) के निचले सदन यानी हाउस ऑफ रिप्रिजेंटेटिव में बहुमत हासिल कर लिया है. हालांकि जैसा अनुमान था राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी का उच्च सदन यानी सीनेट में अब भी बहुमत बरकरार है. सीनेट में कुल 100 सदस्य होते हैं और इसमें बहुमत के लिए किसी भी पार्टी को कम से कम 51 सदस्यों की जरूरत होती है.

इन चुनावों के साथ ही डेमोक्रेट्रिक पार्टी ने सत्ता में रिपब्लिकन पार्टी का एकाधिकार तोड़ दिया है. उसे निचले सदन में 24 से अधिक सीटों का फायदा हुआ और इसके साथ उसने पिछले आठ वर्षों में पहली बार 435 सदस्यीय इस सदन में बहुमत हासिल कर लिया है. हाउस ऑफ रिप्रिजेंटेटिव में अब तक रिपब्लिकन पार्टी के पास 235 और डेमोक्रेट्स के पास 193 सीटें थीं.

इन नतीजों के बाद माना जा रहा है कि 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में दोनों पार्टियों के बीच कड़ा मुकाबला होगा. वहीं राष्ट्रपति ट्रंप लंबे अरसे से आव्रजन, कर और स्वास्थ्य देखभाल से जुड़े कानूनों में जिन बदलावों की वकालत कर रहे हैं, अब उन्हें कांग्रेस से पारित करवाना भी उनके लिए मुश्किल साबित हो सकता है.

अमेरिकी मध्यावधि चुनाव राष्ट्रपति के चार साल के कार्यकाल के बीच में यानी दो साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद होते हैं, इसी कारण इन्हें मध्यावधि चुनाव कहा जाता है. ये चुनाव अमेरिकी कांग्रेस (संसद) के निचले सदन यानी हाउस ऑफ़ रिप्रेंज़ेटेटिव्स (प्रतिनिधि सभा) की सभी 435 सीटों के लिए होते हैं. जबकि, 100 सदस्यों वाले उच्च सदन-सीनेट के केवल एक तिहाई सदस्य ही इस चुनाव से चुने जाते हैं.