दीवाली के जश्न के बाद गुरुवार सुबह दिल्ली सहित पूरा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) धुआं और धुंध की चपेट में है. इससे हवा में प्रदूषण की मात्रा खतरनाक स्तर पर पहुंच चुकी है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक गुरुवार सुबह छह बजे दिल्ली में वायु की गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 325 दर्ज किया गया है जबकि चाणक्यपुरी स्थित अमेरिकी दूतावास के आसपास यह 459 और आनंद विहार तथा मेजर ध्यान चंद नेशनल स्टेडियम के आसपास 999 पहुंच गया. यह स्तर ‘बेहद खतरनाक’ माना जाता है.

दीवाली के मौके पर पटाखे जलाए जाने पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का भी जमकर उल्लंघन हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने रात आठ से दस बजे तक सिर्फ ‘ग्रीन पटाखे’ चलाने की अनुमति दी थी. लेकिन, दिल्ली समेत एनसीआर में शाम से लेकर देर रात तक तेज आवाज वाले सभी तरह के पटाखे जलाए गए. कुछ जगहों से देर रात में पटाखे जलाने वाले को पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने की भी ख़बर है. दिल्ली में प्रदूषण की दिनों-दिन गंभीर होती स्थिति से निपटने के लिए सीपीसीबी कृत्रिम बारिश करवाने पर भी विचार कर रहा है.