ज़िम्बॉब्वे में दो बसों की आमने-सामने भिड़ंत हो जाने से 47 लोगों के मारे जाने की ख़बर आई है. यह दुर्घटना राजधानी हरारे और उससे पूर्व की तरफ स्थित कस्बे रुसेप के बीच हुई.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पुलिस प्रवक्ता पॉल न्याथी ने इन मौतों की पुष्टि की है. यह घटना इतनी हौलनाक है कि सरकारी अख़बार हेराल्ड ने ट्विटर पर इसकी तस्वीरें प्रकाशित न करने तक की सूचना दी है. रूसेप कस्बे के सरकारी अस्पताल के शवगृह में शवों को रखने के लिए जगह कम पड़ गई है. इसलिए उसने अन्य जगहों से मदद मांगी है.

ज़िम्बाब्वे में निजी स्तर पर कुछ लोग ऐसे पार्लर चलाते हैं जो शवों का अंतिम संस्कार करते हैं. ग़ौरतलब है कि ज़िम्बाब्वे में सड़क दुर्घटनाएं बेहद आम हैं क्योंकि सड़कें जर्जर हालत में और गड्‌ढों से भरी हैं. सालों से उनके रखरखाव पर भी ध्यान नहीं दिया गया क्योंकि उसके लिए पर्याप्त पैसा नहीं है. हालांकि जिस राजमार्ग पर ये दुर्घटना हुई उसे हाल में ही दुरुस्त किया गया था.

पिछले साल जून में भी इसी तरह की दुर्घटना में 43 लोगाें की जान चली गई थी. वह दुर्घटना ज़ाम्बिया जाने वाले राजमार्ग पर हुई थी. इधर देश के परिवहन उपमंत्री फॉर्च्यून चासी ने कहा है, ‘सरकार सड़क दुर्घटनाएं कम करने के लिए सभी ज़रूरी क़दम उठाएगी. यह दुर्घटना ऐसे कदम उठाए जाने से पहले आख़िरी साबित होनी चाहिए.’