अमेरिका में व्हाइट हाउस ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए सीएनएन के एक संवाददाता का प्रेस पास निलंबित कर दिया है. पत्रकार का नाम जिम अकोस्टा है. वे सीएनएन के व्हाइट हाउस संवाददाता हैं. उनके पास को अस्थायी तौर पर अयोग्य करार दिए जाने के व्हाइट हाउस के फैसले को सीएनएन ने ‘लोकतंत्र के लिए खतरा’ बताया है.

दरअसल बुधवार को हुए संवाददाता सम्मेलन के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और सीएनएन संवाददाता के बीच तीखी नोंक-झोंक देखने को मिली थी. दोनों के बीच कहासुनी उस वक्त हुई जब सीएनएन संवाददाता ने बैठ जाने के राष्ट्रपति के निर्देश को नहीं माना और अमेरिकी सीमा की तरफ बढ़ रहे मध्य अमेरिकी प्रवासियों के कारवां पर उनकी राय जानने के लिए लगातार सवाल करते रहे. तब बेहद गुस्से में दिख रहे ट्रंप ने कहा, ‘बहुत हो गया.’. इसके एक दिन बाद अकोस्टा का पास निलंबित कर दिया गया. व्हाइट हाउस ने अकोस्टा के बर्ताव को ‘घिनौना और आक्रोशित करने वाला’ करार दिया है.

उधर, सीएनएन ने अपने संवाददाता का बचाव किया है. उसने कहा, ‘आज की प्रेस कांफ्रेंस में चुनौतीपूर्ण सवाल पूछने के कारण बदले की कार्रवाई करते हुए अकोस्टा का पास निलंबित किया गया. यह अभूतपूर्व फैसला हमारे लोकतंत्र के लिए खतरा है और देश इससे बेहतर के काबिल है.’

पीटीआई के मुताबिक व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने अकोस्टा पर आरोप लगाया है कि जब वहां की एक महिला इंटर्न ने अकोस्टा से माइक लेने की कोशिश की तो सीएनएन के पत्रकार ने महिला पर हाथ रखा था. हालांकि व्हाइट हाउस संवाददाता संगठन के पूर्व अध्यक्ष जेफ मैसन ने इस आरोप को खारिज किया है. उन्होंने एक ट्वीट कर कहा, ‘मैं आज की प्रेस कांफ्रेंस में अकोस्टा के ठीक बगल में बैठा था और उन्हें युवा इंटर्न पर अपना हाथ रखते नहीं देखा.’ मैसन ने अपनी बात साबित करने के लिए प्रेस कांफ्रेंस की कुछ तस्वीरें भी डालीं. उधर, व्हाइट हाउस ने साफ किया है कि वह अकोस्टा का पास निलंबित किए जाने के अपने फैसले पर कायम है. प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने एक वीडियो भी साझा किया जिसमें अकोस्टा महिला इंटर्न पर कथित तौर पर अपना हाथ रखते नजर आ रहे हैं.