प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया है कि वह ‘शहरी माओवादियों’ का समर्थन करती है. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बस्तर जिले के जगदलपुर में आयोजित अपनी पहली रैली में उन्होंने यह आरोप लगाया. कांग्रेस पर हमला करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि वह गरीब आदिवासी युवाओं का जीवन बर्बाद करने वाले शहरी माओवादियों का समर्थन करती है. इसके अलावा रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वे तब तक चैन से नहीं बैठेंगे जब तक समृद्ध छत्तीसगढ़ के लिए दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी के सपनों को पूरा नहीं कर देते.

संबोधन में मोदी ने माओवाद का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस नेतृत्व वाली पिछली सरकार ने नक्सल प्रभावित बस्तर के विकास के लिए पर्याप्त काम नहीं किया. उन्होंने कहा, ‘जो शहरी माओवादी हैं, वे शहरों में वातानुकूलित घरों में साफ-सुथरे रहते हैं और उनके बच्चे विदेशों में पढ़ते हैं. वे नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में रिमोट कंट्रोल से आदिवासी बच्चों का जीवन तबाह कर रहे हैं.’ इसके बाद मोदी ने कहा, ‘मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि जब सरकार कार्रवाई करती है तो वह शहरी नक्सलियों का समर्थन क्यों करती है.’

प्रधानमंत्री ने नक्सलवाद को ‘राक्षसी मनोवृत्ति’ करार दिया और कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने बस्तर क्षेत्र के विकास के लिए पर्याप्त काम नहीं किया. उन्होंने कहा, ‘क्या आप ऐसे लोगों को माफ करेंगे? ये लोग छत्तीसगढ़ नहीं जीत पाएंगे. मैं आपसे यह सुनिश्चित करने की अपील करता हूं कि बस्तर में भाजपा सभी सीटों पर विजयी हो. यदि कोई और जीतता है तो यह बस्तर के सपनों पर एक धब्बा होगा.’