‘यह कोई लड़ाई नहीं है. यह तो दुनिया का अंत है. हमारे पूर्वजों के महाभारत जैसा महायुद्ध है.’

यह उस चिट्ठी की एक लाइन है जो पहला विश्वयुद्ध छिड़ने के छह महीने बाद ब्रिटेन के एक अस्पताल में पड़े किसी गुमनाम भारतीय सैनिक ने 29 जनवरी 1915 को लिखी थी. इसी तरह फ्रांस के सॉम मोर्चे पर लड़ते हुए घायल होने वाले इंदर सिंह नाम के एक सिख सैनिक ने सितंबर 1916 के अपने एक पत्र में लिखा था, ‘इसे तो असंभव ही समझो कि मैं जीवित घर लौट सकूंगा. मेरी मौत पर दुखी मत होना. मैं अपनी बांह थामे एक योद्धा की पोशाक में मरूंगा.’

करीब एक सदी पहले हुए प्रथम विश्वयुद्ध में इस तरह के न जाने कितने पत्र लिखे गए होंगे. न तो सभी पत्र आज उपलब्ध हैं और न ही सभी भारतीय सैनिक इतने साक्षर थे कि पत्र लिख सकते. ब्रिटिश सरकार उनके पत्र सेंसर करती थी. इसलिए वे अपने मन की व्यथा-कथा न खुद लिख सकते थे और न किसी और से लिखवा सकते थे. उनकी मर्मांतक पीड़ा न तो भारत ने कभी जानी-समझी और न अंग्रेजों ने उसे कभी जानना चाहा. भारत में वे ‘फिरंगियों के भाड़े के सैनिक थे’ और फिरंगियों के लिए ऐसे भाड़े के टट्टू जिनकी पीठ युद्ध का बोझ ढोने के लिए ही बनी थी.

28 जुलाई 1914 को छिड़ा प्रथम विश्वयुद्ध 11 नवंबर 1918 को खत्म हुआ था. इसे आधुनिक इतिहास का पहला ‘वैश्विक महाभारत’ भी कहा जा सकता है. इसने करीब एक करोड़ 70 लाख लोगों की बलि ली थी.

15 लाख भारतीय सैनिक

भारत तब आज से कहीं बड़ा हुआ करता था. पाकिस्तान और बांग्लादेश ही नहीं, श्रीलंका और म्यांमार (बर्मा) भी ब्रिटिश भारत का हिस्सा हुआ करते थे. तब भी, सेना में भर्ती के लिए अंग्रेजों की पसंद उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी भारत के सिख, मुसलमान और हिंदू क्षत्रिय ही होते थे. उनके बीच से सैनिक और असैनिक किस्म के कुल मिलाकर लगभग 15 लाख लोग भर्ती किए गए थे. अगस्त 1914 और दिसंबर 1919 के बीच उनमें से करीब छह लाख लड़ने-भिड़ने के लिए और लगभग पौने पांच लाख दूसरे सहायक कामों के लिए अन्य देशों में भेजे गए. इस दौरान एशिया, अफ्रीका और यूरोप के विभिन्न मोर्चों पर कुल मिलाकर करीब आठ लाख भारतीय सैनिक जी-जान से लड़े. इनमें 74,187 मृत या लापता घोषित किए गए और करीब 70 हजार घायल हुए.

इस लड़ाई में भारत का योगदान सैनिकों और असैनिक कर्मियों तक ही सीमित नहीं था. भारतीय जनता के पैसे से 1,70,000 पशु और 3,70,000 टन के बराबर रसद भी विभिन्न मोर्चों पर भेजी गई. गुलाम भारत की अंग्रेज सरकार ने लंदन की सरकार को 10 करोड़ पाउंड अलग से दिए. भारत की गरीब जनता का यह पैसा ब्रिटेन ने कभी लौटाया तक नहीं. मिलने के नाम पर पैदल दस्तों (इनफ़ेन्ट्री) के भारतीय सैनिकों को केवल 11 रुपये मासिक वेतन मिलता था. 13,000 भारतीय सैनिकों को बहादुरी के पदक मिले और 12 को ‘विक्टोरिया क्रॉस.’

इस युद्ध में लड़े किसी भी भारतीय को कोई ऊंचा अफसर नहीं बनाया गया. न ही कभी यह माना गया कि भारतीय सैनिकों के बलिदानों के बिना मानव इतिहास के उस पहले विश्व युद्ध में ब्रिटेन की हालत बड़ी खस्ता हो जाती. ये वे भारतीय थे जो पहली बार किसी युद्ध में इस्तेमाल हो रही भारी तोपों, टैंकों और ज़हरीली गैसों वाली ‘औद्योगिक युद्ध पद्धति’ से भी अपरिचित थे और यूरोप की हड्डियां जमा देने वाली बर्फीली ठंड से भी. लड़ते-मरते वे थे, नाम होता था अंग्रेज़ों का.

युद्ध की चिंगारी

युद्ध की आग भड़काने वाली चिंगारी बनी थीं पिस्तौल से निकली तीन गोलियां. युद्ध छिड़ने से ठीक एक महीना पहले, 28 जून 1914 के दिन, तत्कालीन ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई साम्राज्य के युवराज फ्रांत्स फर्डिनांड अपनी पत्नी सोफी के साथ बोस्निया की राजधानी सरायेवो के दौरे पर पहुंचे थे. ऑस्ट्रिया और हंगरी के इस संयुक्त साम्राज्य ने 1878 से ही न सिर्फ आज के बोस्निया-हे्र्त्सेगोविना पर कब्जा कर रखा था बल्कि 1908 में उसका अपने साम्राज्य में विलय भी कर लिया था.

पड़ोसी सर्बिया की राजशाही और अपने आप को स्लाव जातियों का संरक्षक समझने वाला तत्कालीन ज़ारशाही रूस इस विलय से बहुत नाराज थे. दूसरी ओर, ऑस्ट्रिया बोस्निया में रहने वाले क्रोएटों और मुसलमानों को वहां रहने वाले सर्बों के विरुद्ध भड़का रहा था. युवराज की यात्रा से कुछ पहले सरायेवो में सर्बों के विरुद्ध दंगे भी हो चुके थे. इसी गहमागहमी में राष्ट्रवादी सर्बों के एक गिरोह ‘म्लादा बोस्ना’ के छह नौजवानों ने सरायेवो यात्रा के समय युवराज फर्डिनांड की हत्या का षड़यंत्र रचा.

28 जून 1914 के उस अभिशप्त दिन घात लगाकर बैठे षड़यंत्रकारियों ने युवराज के कई कारों वाले काफिले पर एक हथगोला फेंका. कुछ लोग घायल हो गए, पर युवराज बच गए और काफिला आगे बढ़ गया. एक अस्पताल का दौरा कर युवराज जब कोई एक घंटे बाद वापस लौट रहे थे, तो उनका काफिला एक गलत मोड़ लेते हुए एक ऐसी सड़क पर पहुंच गया, जहां षड़यंत्रकारियों में से एक, गवरीलो प्रिंत्सीप नाम का 19 वर्ष का एक छात्र खड़ा था. रविवार का दिन था. पौने ग्यारह बजे थे. उसने आव देखा न ताव, युवराज पर पिस्तौल से दनादन तीन गोलियां दाग दीं. युवराज के साथ-साथ उनकी गर्भवती पत्नी ने भी कुछ समय बाद दम तोड़ दिया.

यूरोपीय साम्राज्यों की गुटबंदी

स्वाभाविक ही था कि ऑस्ट्रिया का राजघराना इस हत्याकांड से आगबबूला हो गया. उसका मानना था कि युवराज और उनकी पत्नी की हत्या सर्बिया ने ही करवाई है. लेकिन, सर्बिया के खिलाफ कार्रवाई का मतलब था कि उसकी मदद के लिए ज़ारशाही रूस भी मैदान में कूद पड़ता. इसलिए रूस को दूर रखने या ज़रूरत पड़ने पर उससे भी दो-दो हाथ कर लेने के विचार से ऑस्ट्रिया ने तत्कालीन जर्मन सम्राट विलहेल्म द्वितीय को पटाया. उन्होंने ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई साम्राज्य का बिना शर्त साथ देने का आश्वासन दिया. लगभग इसी तरह का एक आश्वासन उन्हीं दिनों ज़ारशाही रूस ने सर्बिया को भी दिया.

जिस तरह द्वितीय विश्वयुद्ध के समय पश्चिमी जगत दो गुटों में बंटा हुआ था, उसी तरह प्रथम विश्वयुद्ध के समय भी यूरोप के दो शक्तिशाली साम्राज्यवादी गुट आमने-सामने थे. एक तरफ था 31 अगस्त 1909 के एक गठबंधन-समझौते से बना, ज़ारशाही रूस, फ्रांस और ब्रिटेन का फ्रांसीसी नाम ‘अंतांत’ (मैत्री) वाला ‘मित्र-राष्ट्र’ गुट. इसे ‘मित्र-राष्ट्र तिकड़ी’ (ट्रिपल अंतांत) भी कहा जाता था. दूसरी तरफ था जर्मन साम्राज्य, ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई साम्राज्य और राजशाही इटली का त्रिगुट, जिसे मध्यवर्ती शक्तियां (सेंट्रल पॉवर्स) कहा जाता था. तुर्की के तत्कालीन उस्मानी साम्राज्य से भी इस गुट की नज़दीकी थी. मध्यवर्ती शक्तियों वाला यह गुट, सैन्यशक्ति और आर्थिक दृष्टि से, मित्रराष्ट्र-तिकड़ी के आगे उन्नीस ही बैठता था. तब भी उसे अपने बाहुबल का नशा कुछ ज्यादा ही था.

युद्ध की घोषणा

सरायेवो हत्याकांड के तीन ही सप्ताह बाद, 20 से 23 जुलाई तक, फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति रेमोंद प्वांकार और प्रधानमंत्री रेने विवियानी ज़ारशाही रूस की राजधानी सेंट पीटर्सबर्ग में थे. दोनों देशों का मत था कि ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई युवराज की हत्या के लिए सर्बिया को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. इसलिए सर्बिया पर यदि हमला होता है और रूस को उसकी मदद करनी पड़ती है, तो फ्रांस रूस का साथ देगा. इसके बाद घटनाचक्र तेजी से चला.

ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई साम्राज्य के सम्राट फ्रांत्स योज़ेफ़ ने, 28 जुलाई 1914 को, सर्बिया के विरुद्ध युद्ध की विधिवत घोषणा पर हस्ताक्षर कर दिए. कहा जाता है कि सम्राट युद्ध की घोषणा को 12 अगस्त तक टालना चाहते थे, लेकिन जर्मनी दबाव डाल रहा था कि वे जल्द ही ‘खुल कर बोलें.’ 28 अगस्त की मध्यरात्रि के कुछ समय बाद सर्बिया की राजधानी बेल्ग्रेड पर तोपों के गोले बरसने लगे.

इसके बाद तो सैनिक जमावड़ों और युद्ध-घोषणाओं का तांता लग गया. जर्मनी ने पहली अगस्त को रूस के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी. बेल्जियम और फ्रांस की ओर बढ़ते हुए जर्मन सैनिकों ने दो अगस्त को लक्जमबर्ग पर अधिकार कर लिया. जर्मनी ने तीन अगस्त को फ्रांस और ब्रिटेन ने चार अगस्त को जर्मनी के खिलाफ युद्ध घोषित कर दिया.

ब्रिटिश भारत भी युद्ध में कूदा

उसी दिन, यानी चार अगस्त 1914 के दिन, भारत सहित ब्रिटेन के उस समय के सभी उपनिवेशों की सरकारों ने भी घोषणा कर दी कि वे भी जर्मनी सहित मध्यवर्ती शक्तियों के विरुद्ध युद्ध की स्थिति में हैं. 1914 का नवंबर महीना आते-आते दक्षिण-पूर्वी यूरोप, पश्चिमी एशिया और उत्तर अफ्रीका तक फैला हुआ तुर्की का उस समय का विशाल उस्मानी साम्राज्य भी विश्वयुद्ध की चपेट में आ गया. आज के इराक, सीरिया, लेबनान, जॉर्डन, फिलिस्तीन आदि देश 100 साल पहले तक तुर्की के उस्मानी साम्राज्य के ही झंडे तले हुआ करते थे.

ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस ने उस समय के अपने-अपने उपनिवेशों के जितने भी सैनिक प्रथम विश्वयुद्ध में झोंके, उनमें ब्रिटेन के भारतीय सैनिकों की संख्या सबसे अधिक थी. उन्हें अपनी पहली लड़ाई 1914 और 15 की कठोर सर्दियों में फ्रांस के इप्र मोर्चे पर लड़नी पड़ी. ‘मेरठ’ और ‘लाहौर’ नाम की पहली दो भारतीय डिविजनें, जिनमें कुल मिलाकर 24 हजार सैनिक थे, सितंबर 1914 के अंत और अक्टूबर के शुरू में फ्रांस के मार्से बंदरगाह पर पहुंची थीं. उन्हें तुरंत तथाकथित ‘पश्चिमी मोर्चे’ की उन खंदकों में उतार दिया गया, जिन्हें भारी क्षति के कारण अंग्रेज सैनिकों ने ख़ाली कर दिया था. दिसंबर 1915 आते-आते उन्हें और उनके बाद आए भारतीय सैनिकों को फ्रांस और बेल्जियम में स्थित एक से एक भयंकर मोर्चों पर भारी हथियारों से लैस जर्मन सैनिकों से लोहा लेना पड़ा.

भारतीय सैनिकों को आधुनिक भारी हथियारों का सामना करने और बर्फीली ठंड में लड़ने की न तो पर्याप्त ट्रेनिंग मिली थी और न उस तरह के पहनावे और साज-सामान ही उन्हें मिले थे. इसलिए वे गाजर-मूली की तरह कटे या बीमार हो कर मरे. अंग्रेज खुद पीछे रहते और उन्हें मरने-कटने के लिए आगे कर देते. फ्रांस में लड़े गए एक-तिहाई मोर्चे भारतीयों ने ही संभाले. कुल 1,38,000 भारतीय सैनिक वहां लड़े. 7,700 ने वीरगति पाई और 16,400 घायल हुए. 10 से 12 मार्च 1915 तक चली नौएव शपेल की घमासान लड़ाई में आधे सैनिक भारतीय ही थे. इसी लड़ाई के लिए भारत के खुदादाद खान को पहला ‘विक्टोरिया क्रॉस’ मिला था.

यूरोप के बाद मध्यपूर्व में घमासान

1915 का अंत आने तक फ्रांस और बेल्जियम वाले मोर्चों पर के लगभग सभी भारतीय पैदल सैनिक तुर्की के उस्मानी साम्राज्य वाले मध्यपूर्व में भेज दिये गए. केवल दो घुड़सवार डिविजनें 1918 तक यूरोप में रहीं. तुर्की भी नवंबर 1914 से मध्यवर्ती शक्तियों की ओर से युद्ध में कूद पड़ा था. मध्यपूर्व के अरब देशों में यूरोप जैसी ठंड नहीं पड़ती. वे भारत से बहुत दूर भी नहीं हैं. इसलिए भारत से वहां रसद पहुंचाना भी आसान था. यूरोप के बाद तुर्की का उस्मानी साम्राज्य ही मुख्य रणभूमि बन गया था. कुल मिलाकर 5,88,717 भारतीय सैनिक और 2,93,152 असैनिक कर्मी वहां के विभिन्न मोर्चों पर भेजे गए.

ब्रिटेन, फ्रांस और रूस का मित्रराष्ट्र-गुट तुर्क साम्राज्य की राजधानी कोंस्तांतिनोपल पर, जिसे अब इस्तांबूल कहा जाता है, कब्जा करने की सोच रहा था. इस उद्देश्य से ब्रिटिश और फ्रांसीसी युद्धपोतों ने, 19 फरवरी 1915 को, तुर्की के गालीपोली प्रायद्वीप के तटवर्ती भाग पर – जिसे दर्रेदानियल (डार्डेनल्स) जलडमरूमध्य के नाम से भी जाना जाता है – गोले बरसाए. लेकिन न तो इस गोलाबारी से और न बाद की गोलीबारियों से उन्हें इच्छित सफलता मिल पाई.

कमाल पाशा का कमाल

इसलिए तय हुआ कि गालीपोली में पैदल सैनिकों को उतारा जाए. 25 अप्रैल 1915 को भारी गोलाबारी के बाद वहां ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के सैनिक उतारे गए. पर वे भी तेजी से आगे नहीं बढ़ पा रहे थे. उनकी सहायता के लिए भेजे गए करीब 3000 भारतीय सैनिकों में से आधे से अधिक मारे गए. गालीपोली अभियान अंततः विफल हो गया. जिस तुर्क कमांडर की सूझबूझ के आगे मित्रराष्ट्रों की एक न चली, उस का नाम था गाजी मुस्तफा कमाल पाशा. युद्ध में पराजय के कारण उस्मानी साम्राज्य के विघटन के बाद वही वर्तमान तुर्की का राष्ट्रपिता और पहला राष्ट्रपति बना और कमाल अतातुर्क कहलाया. 1919-20 में पेरिस में 27 देशों के सम्मेलन में हुई वर्साई संधि ने उस्मानी और ऑस्ट्रियाई-हंगेरियाई साम्राज्य का अंत कर दिया और उनके अनेक टुकड़े करते हुए यूरोप सहित मध्यपूर्व के नक्शे को भी एकदम से बदल दिया.

जर्मनी को भी मुंह की खानी पड़ी थी. वर्साई सधि में उसे भी युद्ध छेड़ने का दोषी ठहराया गया. जर्मन साम्राज्य को अपना सैन्यबल घटाना पड़ा. अपनी बहुत सारी ज़मीन अपने पड़ोसियों को देनी पड़ी और युद्ध में हुए नुकसानों की भरपाई के नाम पर विजेता देशों को ढेर सारा पैसा भी देना पड़ा. 11 नवंबर 1918 के युद्धविराम से पहले ही जर्मनी में जन-असंतोष इतना बढ़ गया था कि सम्राट विलहेल्म द्वितीय को, दो ही दिन पहले, राजगद्दी त्याग देनी पड़ी और देश छोड़ कर नीदरलैंड में शरण लेनी पड़ी. वहीं 1941 में उनकी मृत्यु भी हुई.

प्रथम विश्वयुद्ध वाले दिनों में मध्यपूर्व में भेजे गए भारतीय सैनिकों में से 60 प्रतिशत मेसोपोटैमिया (वर्तमान इराक) में और 10 प्रतिशत मिस्र तथा फिलिस्तीन में लड़े. इन देशों में वे लड़ाई से अधिक बीमारियों से मरे. उनके पत्रों के आधार पर इतिहासकार डेविड ओमिसी का कहना है, ‘सामान्य भारतीय सैनिक (तत्कालीन) ब्रिटिश सम्राट के प्रति अपनी निष्ठा जताने और अपनी जाति की इज़्ज़त बचाने की भावना से प्रेरित हो कर लड़ता था. एकमात्र अपवाद वे मुस्लिम-बहुल इकाइयां थीं, जिन्होंने तुर्की वाले उस्मानी साम्राज्य के अंत की आशंका से अवज्ञा अथवा बगावत का रास्ता अपनाया. उन्हें कठोर सजाएं भुगतनी पड़ीं.’

इस्लामी अतिवाद और प्रथम विश्वयुद्ध

एक दूसरे इतिहासकार और अमेरिका में पेन्सिलवैनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर फिलिप जेंकिन्स इस बगावत का एक दूसरा पहलू भी देखते हैं. उनका मानना है कि वास्तव में प्रथम विश्वयुद्ध में उस्मानी साम्राज्य के खिलाफ लड़ने से मुस्लिम सैनिकों का इनकार और युद्ध में पराजय के साथ उस्मानी साम्राज्य का छिन्न-भिन्न हो जाना ही वह ऐसी पहली निर्णायक चोट है, जिसने आज के इस्लामी जगत में अतिवाद और आतंकवाद को जन्म दिया. अपने एक लेख में वे लिखते हैं, ‘वही उस पृथकतावाद की ओर भी ले गया, जिसने अंततः इस्लामी पाकिस्तान को जन्म दिया और वे नयी धाराएं पैदा कीं जिनसे ईरानी शियापंथ बदल गया.’

प्रो. जेंकिन्स का तर्क है कि जब युद्ध छिड़ा था तो उस्मानी साम्राज्य ही ऐसा एकमात्र शेष बचा मुस्लिम राष्ट्र था जो अपने लिए महाशक्ति के दर्जे का दावा कर सकता था. वे लिखते हैं, ‘उसके शासक जानते थे कि रूस और दूसरे यूरोपीय देश उसे जीत कर खंडित कर देंगे. जर्मनी के साथ गठजोड़ ही (उनके लिए) आशा की अंतिम किरण थी. 1918 में युद्ध हारने के साथ ही सारा साम्राज्य बिखर कर रह गया.’ प्रो. जेंकिन्स का मत है कि उस्मानी साम्राज्य का अंत हो जाने के बाद 1924 में नये तुर्की द्वरा ‘खलीफा’ के पद को त्याग देना 1,300 वर्षों से चली आ रही एक अखिल इस्लामी सत्ता का विसर्जन कर देने के समान था. उनके शब्दों में ‘इसने एक ऐसा आघात पीछे छोड़ा है जिससे इस्लामी दुनिया आज तक उबर नहीं सकी.’

‘ख़लीफ़त’ का अंत बन गया ‘ख़िलाफ़त’ का आरंभ

प्रो. जेंकिन्स लिखते हैं, ‘खलीफत के अंत की आहट भर से ब्रिटिश भारत की तब तक शांत मुस्लिम जनता एकजुट होने लगी. उससे पहले भारत के मुसलमान महात्मा गांधी की हिंदू-बहुल कांग्रेस पार्टी के स्वतंत्रता की ओर बढ़ते झुकाव से कुल मिलाकर संतुष्ट ही थे. लेकिन अब, ख़िलाफ़त आंदोलन चला कर मुस्लिम अधिकारों और एक मुस्लिम राष्ट्र की मांग होने लगी. यही आंदोलन 1947 में भारत के रक्तरंजित विभाजन और पाकिस्तान के जन्म का स्रोत बना.’

स्मरणीय यह भी है कि महात्मा गांधी प्रथम विश्वयुद्ध के समय पूर्ण स्वतंत्रता के लिए कोई आंदोलन छेड़ कर ब्रिटिश सरकार की परेशानियां बढ़ाने के बजाय उसे समर्थन देने के पक्षधर थे. ब्रिटिश अधिकारी भी यही संकेत दे रहे थे कि संकट के इस समय में भारतीय नेताओं का सहयोग भारत में स्वराज या स्वतंत्रता का इंतजार घटा सकता है. लेकिन, नवंबर 1918 में युद्ध का अंत होने के बाद सब कुछ ढाक के तीन पात जैसा ही रहा. लंदन में ब्रिटिश मंत्रिमंडल की बैठकों में तो यहां तक कहा गया कि भारत को अपना शासन आप चलाने लायक बनने में अभी 500 साल लगेंगे.

बलिदान कांग्रेस का, वरदान मुस्लिम लीग को

1939 में जब दूसरा विश्वयुद्ध छिड़ा और ब्रिटेन को एक बार फिर भारतीय सैनिकों और उनकी निष्ठा की जरूरत पड़ी, तब कांग्रेस पार्टी के नेता किसी झांसे में नहीं आए. 1942 में गांधी ने नारा दिया, ‘अंग्रेज़ों भारत छोड़ो’. लेकिन, मुहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग ने इस शर्त पर ब्रिटेन को समर्थन देना मान लिया कि बदले में पाकिस्तान जरूर मिलेगा. 1947 में अंग्रेज जब भारत से गए तो जिन्ना को पाकिस्तान दे कर ही गए. भारत दोनों बार ठगा गया. बलिदान उसने दिए, वरदान दूसरों को मिले.

प्रथम विश्वयुद्ध छिड़ने की 100 वीं वर्षगांठ पर 2014 में यूरोप के लगभग सभी देशों ने अपने सैनिकों की गौरव गाथाएं याद कीं. यदि किसी देश ने इसकी जरूरत नहीं समझी तो वह था भारत जिसके लाखों सैनिक युद्ध में लड़े थे और हजारों वीरगति को प्राप्त हुए थे. जिनका अपना देश उन्हें भुला देता है उन्हें पराए देश वाले भला क्यों याद करने लगे? भारत के वे अभागे सैनिक भी दोनों तरफ से ठगे गए. न भारत उन्हें याद करता है और न पश्चिमी देश. पश्चिम में शायद ही कोई जानता है कि प्रथम विश्वयुद्ध में पश्चिमी देशों की विजय के लिए भारत के भी 15 लाख सैनिक लड़े थे.