‘केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर में मुख्य धारा से अलग हुए संगठनों के साथ बातचीत क्यों नहीं कर सकती?’  

— उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री

उमर अब्दुल्ला ने यह बात एक ट्वीट के जरिये केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कही है. इसी ट्वीट में उमर अब्दुल्ला ने यह भी लिखा है कि रूस में तालिबान के साथ होने वाली शांति वार्ता में अगर भारत सरकार अनौपचारिक तौर पर शामिल हो सकती है तो जम्मू-कश्मीर की भलाई के लिए वह राज्य के मुख्यधारा से अलग हुए संगठनों के साथ ‘अनाधिकारिक’ स्तर की वार्ता क्यों नहीं शुरू कर सकती.

‘कांग्रेस आदिवासी युवाओं का जीवन बर्बाद करने वाले शहरी माओवादियों का समर्थन करती है.’  

— नरेंद्र मोदी, भारत के प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘शहरी माओवादी खुद वातानुकूलित घरों में ठाठ-बाट से रहते हैं. इनके बच्चे विदेश में पढ़ते हैं. लेकिन यही लोग नक्सल प्रभावित इलाकों में रिमोट कंट्रोल के जरिये आदिवासियों के बच्चों के हाथों में बंदूकें पकड़ाकर उनका जीवन तबाह कर रहे हैं.’ नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि राज्य की पूर्ववर्ती सरकारों ने बस्तर क्षेत्र के विकास के लिए जरूरी काम नहीं किए. इसलिए यहां के लोगों को इस विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित करने के लिए अपना समर्थन देना चाहिए.


‘भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सबरीमला मंदिर का अनादर न करें.’  

— शशि थरूर, कांग्रेस के नेता

शशि थरूर का यह बयान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और संघ के कार्यकर्ताओं द्वारा महिलाओं को सबरीमला मंदिर में प्रवेश न करने देने को लेकर किए जा रहे विरोध-प्रदर्शन पर आया है. उनका कहना है कि भाजपा और संघ के इस रवैये से मंदिर और भगवान अय्यपा का ‘अनादर’ हो रहा है. इसके साथ ही शशि थरूर ने यह भी कहा है कि मंदिर में हर उम्र की महिला के प्रवेश को सुनिश्चित करा पाने में राज्य सरकार भी असफल साबित हुई है.


‘नोटबंदी के दौरान क्या आप लोगों ने कालाधन रखने वाले किसी व्यक्ति को बैंकों की कतारों में खड़े देखा था?’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात छत्तीसगढ़ के कांकेर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कही. उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी के फैसले ने देश के छोटे और मझौले कारोबारियों को बर्बाद कर दिया जिसकी चोट से वे आज तक उबर नहीं सके हैं. इस मौके पर रफाल विमान सौदे में बरती गईं कथित अनियमितताओं और इसमें हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के बजाय रिलायंस डिफेंस को सहयोगी बनाए जाने को लेकर भी उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधा. कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ में उनकी सरकार बनी तो दस दिनों के भीतर किसानों के कर्ज माफ किए जाएंगे और नौकरियों के मौके बढ़ाने पर उनकी सरकार ​खास ध्यान देगी.


‘केंद्र सरकार रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया से कोई पैसे नहीं मांग रही है.’  

— एससी गर्ग, आर्थिक मामलों के सचिव

एससी गर्ग का यह बयान केंद्र सरकार द्वारा रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया (आरबीआई) से 3.6 लाख करोड़ रुपये मांगे जाने संबंधी मीडिया में आई खबरों पर सफाई देते हुए आया है. उनका यह भी कहना है कि राजस्व को लेकर सरकार का आकलन पूरी तरह से सही है और आरबीआई से 3.6 लाख करोड़ या एक लाख करोड़ रुपये मांगने संबंधी सरकार का कोई प्रस्ताव नहीं है.