आस्ट्रेलिया सरकार ने कहा है कि बीते शुक्रवार को जिस व्यक्ति ने मेलबर्न में हमला किया था उसका आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से कोई स्पष्ट संबंध नहीं था. लेकिन, हमलावर इस संगठन से प्रेरित था. पीटीआई के मुताबिक रविवार को ऑस्ट्रेलिया के गृहमंत्री पीटर डटन ने मीडिया को बताया, ‘प्रशासन नहीं मानता है कि वह इस्लामिक स्टेट का सदस्य था और जांच के दौरान ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं जिससे ये पता लगे कि वह किसी आतंकी संगठन का हिस्सा था.’

गृहमंत्री ने आगे कहा, ‘ऐसा भी कोई सबूत नहीं है जिससे ये पता लगे कि यह हमला योजना बनाकर किसी साजिश के तहत किया गया था.’

बीते शुक्रवार को सोमाली मूल का हसन खलीफ अली मेलबर्न के ‘बुर्के स्ट्रीट’ इलाके में एक वाहन चला रहा था. पुलिस के मुताबिक हसन ने पहले अपने वाहन में आग लगा दी फिर चाकू से कई लोगों पर ताबड़तोड़ हमला किया. इस हमले में एक व्यक्ति की मौत भी हो गई थी. घटना के दौरान ही पुलिस ने हसन अली को मार गिराया था.

इस हमले के कुछ देर बाद इस्लामिक स्टेट ने इसकी जिम्मेदारी ली थी. संगठन ने अपनी वेबसाइट ‘अमाक’ पर लिखा था, ‘मेलबर्न में हमला करने वाला इस्लामिक स्टेट का लड़ाका था और उसने इस्लामिक स्टेट से लड़ रहे देशों के नागरिकों को निशाना बनाने के लिए इस हमले को अंजाम दिया था.’