नक्सलियों के बहिष्कार के बावजूद छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में जमकर मतदान हुआ. सोमवार को पहले चरण के लिए हुए 18 विधानसभा सीटों के लिए करीब 70 प्रतिशत मतदान हुआ. इस दौरान कई जगहों से हिंसा और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के खराब होने की खबर आई. इससे पहले 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान मतदान का प्रतिशत 75.53 रहा था.

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक शाम 4.30 बजे तक सबसे ज्यादा मतदान खुज्जी में (65.5 प्रतिशत) हुआ. नक्सलवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित बस्तर में भी 58 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि साल 2013 में यहां करीब 40 प्रतिशत मतदान हुआ था. वहीं दंतेवाड़ा में 58 प्रतिशत मतदान हुआ. नक्सलियों ने मतदान को प्रभावित करने के प्रयास भी किए. मतदान शुरू होने से पहले दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को निशाना बनाते हुए आईईडी ब्लास्ट किया. इस हमले में किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ. वहीं दोपहर में बीजापुर में सुरक्षा बलों के साथ हुई एक मुठभेड़ में पांच नक्सलियों के मारे जाने की खबर है. इस हमले में सुरक्षा बलों के पांच जवान भी घायल हो गए. सभी जवान खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं. चुनाव के दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए 28 नवंबर को मतदान होना है.