सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने अपने वरिष्ठ पायलट व निदेशक (परिचालन) अरविंद कठपालिया को उनके पद से मुक्त कर दिया है. एनडीटीवी के मुताबिक बीते रविवार अरविंद कठपालिया को नई दिल्ली से लंदन के लिए एक उड़ान लेकर रवाना होना था. उड़ान से पहले किए गए एल्कोहल टेस्ट में उन्हें काफी अधिक मात्रा में शराब पीने का दोषी पाया गया था. इसी वजह से नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने विमान उड़ाने संबंधित उनका लाइसेंस भी तीन साल के लिए निलंबित कर दिया था.

इससे पहले जनवरी 2017 में भी कठपालिया को उड़ान लेकर रवाना होने से पहले शराब पीने का दोषी पाया गया था. तब डीजीसीए ने तीन महीने के लिए उनका लाइसेंस निलंबित किया था. इसके साथ ही उन्हें कार्यकारी निदेशक (परिचालन) के पद से भी हटा दिया गया था. वहीं ताजा मामले को लेकर मंगलवार को इंडियन कॉमर्शियल पायलट एसोसिएशन (आईसीपीए) ने भी केंद्रीय नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु से उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी.

डीजीसीए के नियमों के मुताबिक चालक दल के सदस्यों के लिए उड़ान से 12 घंटे पहले शराब पीने पर रोक है. इस नियम को सख्ती से लागू कराने के लिए उड़ान भरने से पहले और इसके उतरने के बाद पायलटों का एल्कोहल टेस्ट कराया जाता है. अगर कोई पायलट पहली बार इस नियम का उल्लंघन करता है तो तीन महीने के लिए उसका लाइसेंस निलंबित कर दिया जाता है. दूसरे मौके पर तीन साल के लिए लाइसेंस निलंबित करने का प्रावधान है जबकि तीसरी बार यह गलती होने पर हमेशा के लिए लाइसेंस निलंबित किया जा सकता है.