रफाल सौदे की जांच की मांग के साथ दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को फैसला सुरक्षित रख लिया. याचिकाकर्ताओं में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी भी शामिल हैं. चार घंटे की मैराथन सुनवाई के दौरान सरकार ने अपनी दलील में कहा कि इस सौदे की समीक्षा अदालत का नहीं बल्कि विशेषज्ञों का काम है. उधर, सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते याचिकाकर्ताओं का तर्क था कि वह सौदे के गोपनीयता प्रावधान की आड़ में छिपने की कोशिश कर रही है. इस खबर को आज लगभग सभी अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इसके अलावा 1984 के सिख दंगों के मामले में पहली बार दो आरोपितों को दोषी करार दिए जाने की खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट आज इन्हें सजा सुनाएगा.

आतंकी घटना कहीं भी हो, उसकी जन्मस्थली एक ही : नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद का मामला उसके प्रमुख सहयोगी अमेरिका के सामने उठाया है. हिंदुस्तान के मुताबिक सिंगापुर में अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस के साथ एक मुलाकात में प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद की घटना कहीं भी हो, उसकी जन्मस्थली एक ही होती है. नरेंद्र मोदी ने 2008 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के पाकिस्तान में चुनाव लड़ने पर भी चिंता जताई. इसके अलावा दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग सहित कई द्विपक्षीय मुद्दों पर भी बात हुई. प्रधानमंत्री पूर्वी एशिया सम्मेलन में भाग लेने के लिए सिंगापुर गए हैं.

मराठा समुदाय के लिए आरक्षण का रास्ता साफ

महाराष्ट्र सरकार गठित एक आयोग ने मराठा समुदाय को सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़ा बताया है. पूर्व जस्टिस एमडी गायकवाड़ की अगुवाई में यह आयोग 2016 में बनाया गया था. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक यह अपनी रिपोर्ट आज सरकार को सौंपेगा. एक अधिकारी के मुताबिक अब यह मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को तय करना है कि इस समुदाय को ओबीसी में शामिल किया जाए या फिर उसे अलग से आरक्षण दिया जाए. महाराष्ट्र की आबादी में करी 31 फीसदी हिस्सेदारी रखने वाला मराठा समुदाय काफी समय से आरक्षण की मांग कर रहा है.

ट्विटर ने चुनाव आयोग के दो फर्जी खाते हटाए

सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर ने चुनाव आयोग के नाम से चलाए जा रहे दो फर्जी खाते हटा दिए हैं. डीएनए की एक खबर के मुताबिक यह कार्रवाई उसने चुनाव आयोग की शिकायत पर की. भारतीय चुनाव आयोग नाम के इन दो खातों को दो अलग-अलग हैंडल्स से चलाया जा रहा था. आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि ये दोनों खाते लोगों को गलत जानकारियां दे रहे थे. चुनाव आयोग का फेसबुक पर अपना अकाउंट है, लेकिन ट्विटर पर इसका कोई वेरिफाइड हैंडल नहीं है. आयोग के प्रवक्ता की तरफ से स्पोक्सपरसनईसीआई नाम के हैंडल पर जानकारियां दी जाती हैं.