कांग्रेस के राज्यसभा सांसद व चर्चित अधिवक्ता केटीएस तुलसी ने उम्मीद जताई है कि 1984 के सिख दंगा मामले में उनकी ही पार्टी के नेता सज्जन कुमार को फांसी की सजा मिलेगी. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक केटीएस तुलसी ने यह बात दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के सामने एक गवाह द्वारा सज्जन कुमार को पहचाने जाने के हवाले से कही है. केटीएस तुलसी ने आगे कहा है, ‘सज्जन कुमार पर लगे आरोपों का यह प्रत्यक्ष प्रमाण है. मुझे उम्मीद है कि इसका नतीजा उनके लिए मौत की सजा के तौर पर सामने आएगा.’

इससे पहले शुक्रवार को पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के दौरान चाम कौर नाम की एक गवाह ने सज्जन कुमार की पहचान करते हुए कहा था कि दिल्ली के सुल्तानपुरी इलाके में उन्होंने लोगों को भड़काया था जिसके बाद उग्र भीड़ ने उनके घर को आग के हवाले कर दिया था. इससे पहले शीला कौर नाम की एक अन्य गवाह भी सज्जन कुमार की पहचान कर चुकी हैं.

भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सुरक्षा में तैनात सिख सुरक्षाकर्मियों द्वारा उनकी हत्या किए जाने के बाद देश भर में सिख विरोधी दंगे भड़क उठे थे. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक उन दंगों में करीब 2800 सिख मारे गए थे जिनमें 2100 सिखों की मौत सिर्फ दिल्ली में हुई थी.