कनाडा का ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय अपने परिसर में छात्रों के लिए गांजे को वैध बनाने वाला दुनिया का पहला विश्वविद्यालय बन सकता है. विश्वविद्यालय समिति ‘परिसर में धूम्रपान और धूम्रपान उत्पाद संवर्धन’ नामक एक नीतिगत मसौदा लाई है. इस पर परामर्श किया जा रहा है और जल्द ही इस पर अंतिम निर्णय लिया जा सकता है.

विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘जब आप किसी भी ऐसी गतिविधि को अवैध बनाते हैं, जिसे लोग किसी न किसी रूप में करते हैं तो इस कदम से वह व्यवहार अंदर ही अंदर बढ़ता है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हर चीज या किसी भी चीज को अपराध के दायरे से बाहर रखा जा सकता है. नीति इस बात का भी ख्याल रखेगी कि परिसर में अनुशासन भी बना रहे.’

इस नीति के अनुसार निर्धारित स्थलों के अलावा और कहीं भी गांजा पीने की अनुमति नहीं होगी. परिसर में उसकी ब्रिकी पर भी पाबंदी होगी. हालांकि, नीति के अनुसार विश्वविद्यालय के कर्मचारियों को कार्य के दौरान या उससे पहले अल्कोहल एवं गांजा समेत किसी भी नुकसानदेह पदार्थ के सेवन से दूर रहना होगा. पिछले महीने ही कनाडा में गांजा रखने और बेचने को कानूनी मान्यता मिली है.