चुनाव जीतने के लिए, सत्ता पाने के मक्सद से, उसे अपने पास क़ायम रखने की ग़रज से राजनेता सब कुछ करने के लिए तैयार रहते हैं. इसकी ताज़ा मिसाल तेलंगाना के मुख्यमंत्री (फिलहाल कार्यवाहक) केसीआर यानी के चंद्रशेखर राव हैं. उन्होंने इन दिनों यज्ञ-हवन की शरण ली हुई है. यह कार्यक्रम सिद्दीपेट जिले में उनके फार्म हाउस पर चल रहा है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार केसीआर ने दो यज्ञ किए हैं. पहला- ‘राज श्यामला यज्ञ’ और दूसरा- ‘चंडी यज्ञ’. सिद्दीपेट जिले के एरावल्ली में स्थित उनके फार्म हाउस पर परिवार के सभी सदस्यों की मौज़ूदगी में यह कार्यक्रम रविवार को शुरू हुआ है. इन यज्ञों की पूर्णाहुति सोमवार सुबह 11.11 बजे होने वाली है. बताया जाता है कि ये यज्ञ राज्य की समृद्धि और खुशहाली के लिए किए गए हैं. साथ ही सरकार ने जो विकास कार्य शुरू किए हैं वे आगे भी जारी रहें, इस मक़सद से भी. दूसरे अर्थों में कहें तो केसीआर की सरकार बनी रहे इसलिए भी.

ग़ौरतलब है कि केसीआर ज्योतिष, अंकज्योतिष आदि को काफ़ी मानते हैं. इसी के अनुसार उन्होंने समय से पहले राज्य विधानसभा भंग करने और चुनाव कराने का फ़ैसला किया था. सामान्य स्थिति में 2019 में लोक सभा के साथ तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होने थे पर अब केसीआर के फ़ैसले की वज़ह से सात दिसंबर को मतदान निर्धारित है. नतीज़े 11 दिसंबर को आएंगे. इसे लेकर उनकी चिंता लाज़िमी है.