शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर केंद्र और महाराष्ट्र में अपने ही सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर एक बार फिर निशाना साधा है. एनडीटीवी के मुताबिक इस बार सवालिया लहजे में उद्धव ठाकरे ने कहा है कि कहीं 15 लाख रुपये के वादे की तरह राम मंदिर भी तो भाजपा का ‘जुमला’ नहीं है. इसके साथ ही भाजपा विरोधी दलों के सुर से सुर मिलाते हुए उन्होंने यह भी कहा है, ‘चुनाव आते ही भाजपा को राम मंदिर का मुद्दा याद आ जाता है और चुनाव पूरे होते ही इसे भुला दिया जाता है. लेकिन अब हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि राम मंदिर के सपने को हकीकत का रूप दिया जाए.’

राम मंदिर को लेकर बीते कुछ महीनों से शिव सेना ने भाजपा के प्रति आक्रामक रुख अपनाया हुआ है. इससे पहले बीते रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा था कि इसी महीने की 24 तारीख को वे अयोध्या जा रहे हैं और वहां रामलला के दर्शन करने के साथ सरयू तट पर पूजा-अर्चना भी करेंगे. इस मौके पर आगामी आम चुनाव से पहले राम मंदिर का निर्माण शुरू करने की बात कहते हुए उन्होंने ‘हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर सरकार’ का नारा भी दिया था.

उधर बीते दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत द्वारा संसद में अध्यादेश लाकर अयोध्या में राम मंदिर बनाए जाने की बात का शिव सेना समर्थन कर चुकी है. शिव सेना के नेता संजय राउत ने हाल ही में दोहराया था कि अगर राम मंदिर के मुद्दे पर भाजपा संसद में कानून बनाती है तो शिव सेना इसका समर्थन करेगी. उनका यह भी कहना था कि केंद्र सरकार अगर ‘तीन तलाक’ को लेकर कानून बना सकती है तो राम मंदिर के लिए भी ऐसा किया जा सकता है.