‘15 लाख रुपये के वादे की तरह कहीं राम मंदिर का निर्माण भी तो भाजपा का जुमला नहीं था?’  

— उद्धव ठाकरे, शिव सेना के प्रमुख

उद्धव ठाकरे का यह बयान अपने ही सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए आया है. भाजपा के विरोधी दलों की ही तरह उन्होंने भी यह कहा है कि चुनाव आते ही भाजपा को राम मंदिर का मुद्दा याद आ जाता है और चुनाव बीतने के बाद यह ठंडे बस्ते में चला जाता है. उद्धव ठाकरे का यह भी कहना है, ‘अब हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि राम मंदिर के सपने को हकीकत का रूप दिया जाए.’

‘भ्रष्टाचार रूपी दीमक को देश से बाहर करने के लिए नोटबंदी जैसी कड़वी दवा का इस्तेमाल करना जरूरी था.’  

— नरेंद्र मोदी, भारत के प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही. नोटबंदी को जायज ठहराते हुए उन्होंने यह भी कहा कि जब कहीं दीमक लग जाती है तो उसे हटाने के लिए सबसे जहरीली दवा का इस्तेमाल करना पड़ता है. प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘नोटबंदी के जरिये मैंने काला धन रखने वालों को एक-एक पाई बैंकों में जमा कराने के लिए मजबूर कर दिया.’


‘मैंने सोच लिया है कि 2019 में होने वाला लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ूंगी.’  

— सुषमा स्वराज, भारत की विदेश मंत्री

सुषमा स्वराज ने यह बात मध्य प्रदेश के इंदौर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कही. अपने इस फैसले के लिए उन्होंने अपनी सेहत का हवाला दिया. हालांकि सुषमा स्वराज ने यह भी कहा कि आगामी आम चुनाव के दौरान उनके चुनाव लड़ने और न लड़ने का अंतिम फैसला पार्टी करेगी. केंद्र में दूरसंचार, सूचना-प्रसारण, स्वास्थ्य व कल्याण जैसे अहम मंत्रालय संभालने वाली सुषमा स्वराज दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रह चुकी हैं.


‘तेलंगाना में एक रैली रोकने के लिए कांग्रेस ने मुझे 25 लाख रुपये की पेशकश की थी.’  

— असदुद्दीन ओवैसी, एआईएमआईएम के प्रमुख

असदुद्दीन ओवैसी ने यह बात तेलंगाना के निर्मल जिले में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही. उन्होंने आगे कहा, ‘मैं अपनी जान दे सकता हूं लेकिन अपने वादों को नहीं बेच सकता. कोई मुझे खरीद नहीं सकता.’ उधर, कांग्रेस के नेता मीम अफजल ने इस आरोप का खंडन करते हुए कहा है कि तेलंगाना में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर रही है और इसी वजह से असदुद्दीन ओवैसी कांग्रेस पर इस तरह के आरोप लगा रहे हैं.


‘अगर कांग्रेस अब भी हमारे साथ आ जाए तो मध्य प्रदेश में हमारा गठबंधन दो सौ से ज्यादा सीटें जीत सकता है.’  

— अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष

अखिलेश यादव ने यह बात मध्य प्रदेश के भोपाल में अपनी पार्टी का चुनाव घोषणा पत्र जारी करने के मौके पर कही. उन्होंने यह भी कहा कि उनकी चा​हत थी कि प्रदेश के इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) एक साथ मिलकर चुनाव लड़ें पर कांग्रेस इसके लिए तैयार नहीं हुई. मध्य प्रदेश में अब सपा गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है.


‘आक्रामक क्रिकेट खेलने का यह मतलब नहीं कि आप मुंह से ही कुछ बोलें.’  

— एरॉन फिंच, आॅस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कप्तान

एरॉन फिंच का यह बयान भारत-आॅस्ट्रेलिया के बीच शुरू होने वाली किक्रेट की द्विपक्षीय सीरीज के एक दिन पहले आया है. उनका यह भी कहना है कि क्रिकेट के मैदान पर आक्रामकता दिखाने के लिए जरूरी नहीं कि स्लेजिंग (अपशब्द) का इस्तेमाल किया जाए. इस भाव के प्रदर्शन के लिए ‘शारीरिक भाषा’ का इस्तेमाल भी किया जा सकता है. एरॉन फिंच के मुताबिक क्रीज पर किसी खिलाड़ी की कैसी मौजूदगी होती है और गेंद हाथ में होने पर वह उसके साथ क्या करता है इससे भी खिलाड़ी की आक्रामकता का पता चलता है.