केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम (एनएफडीसी) के खिलाफ जांच शुरू की है. द प्रिंट के मुताबिक एनएफडीसी में वित्तीय अनियमितताओं, और गबन के अलावा नियमों की अनदेखी करते हुए अनुराग कश्यप व दिबाकर बनर्जी जैसे फिल्म निर्देशकों को अनावश्यक भुगतान करने संबंधी शिकायतें सीबीआई को मिली थीं. इसके आधार पर सीबीआई ने बीते महीने एनएफडीसी के निदेशक (वित्त) से संस्थान के ही कुछ अधिकारियों के अलावा सन टीवी, यूएफओ मूवीज, अनुराग कश्यप की कंपनी ‘अनुराग कश्यप फिल्म्स’ से जुड़े कुछ दस्तावेजों की मांग की थी.

इससे पहले पूर्व सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने इस मंत्रालय में अपने कार्यकाल के दौरान एनएफडीसी में भ्रष्टाचार और नियमों की अनदेखी की जांच के लिए एक टीम गठित की थी. उस टीम ने संस्थान के प्रचार अभियानों में अनियमितताओं और विज्ञापनों के भुगतान में गड़बड़ियां पाई थीं. इसी तरह फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप को ‘दैट गर्ल इन यलो बूट्स’ के लिए एनएफडीसी की तरफ से 62 लाख रुपये दिए जाने और उन्हीं की एक अन्य फिल्म ‘लंचबॉक्स’ के लिए संस्थान की तरफ से डेढ़ करोड़ रुपये दिए जाने की बात सामने आई थी. ऐसे ही कथित आरोप फिल्म निर्माता दिबाकर बनर्जी पर भी लगाए गए हैं. उस रिपोर्ट के बाद स्मृति ईरानी ने इन मामलों की सीबीआई से जांच कराए जाने की मांग की थी.

इस बीच अनुराग कश्यप ने इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है जबकि दिबाकर बनर्जी की तरफ से इस मामले पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.