बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने भीम आर्मी और बहुजन यूथ फॉर मिशन - 2019 जैसे संगठनों पर दलित समाज के लोगों को बहकाने का आरोप लगाया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक नई दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मायावती ने कहा, ‘भीम आर्मी और बहुजन यूथ जैसे संगठनों के कार्यकर्ता ​बसपा के विरोधी दलों के इशारों पर काम करते हुए दलितों की बस्तियों में जाकर बसपा और बहनजी को मजबूत करने के नाम पर चंदा बटोरकर अपनी जेबें भरने में लगे हुए हैं.’ उन्होंने आगे कहा, ‘बसपा कार्यकर्ताओं और बहुजन समाज को इन लोगों से सावधान रहने की जरूरत हैं क्योंकि ये लोग हमारे नाम पर लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं.

इस दौरान केंद्र के सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा, ‘2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान किए अपने वादों में नरेंद्र मोदी 50 फीसदी भी पूरे नहीं कर सके हैं. उन्हें अच्छी तरह मालूम है कि अगले साल होने वाले आम चुनाव में उन्हें जीत नहीं मिलने वाली. यही वजह है कि मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए एक तय एजेंडा के तहत भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा उछालना शुरू कर दिया है.’ इसके साथ ही बसपा प्रमुख का यह भी कहना था कि राम मंदिर को लेकर अगर भाजपा की नीयत साफ होती तो इसके निर्माण की बात उठाने के लिए वह सत्ता में आने के बाद इतना इंतजार नहीं करती.