‘मुझे राम मंदिर बनवाने का श्रेय नहीं बल्कि इसका निर्माण शुरू होने की तारीख चाहिए.’  

— उद्धव ठाकरे, शिव सेना के अध्यक्ष

उद्धव ठाकरे ने यह बात अयोध्या में नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे बीते चार सालों से कुंभकर्णी नींद में सोई केंद्र सरकार को जगाने के लिए अयोध्या आए हैं. उद्धव ठाकरे के मुताबिक केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार मिली-जुली थी लेकिन मौजूदा समय में केंद्र के साथ उत्तर प्रदेश में पार्टी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार है. ऐसे में राम मंदिर के निर्माण को लेकर वादा नहीं काम किया जाना चाहिए.

‘उस देश की नियति में असफल होना लिखा होता है जहां के संस्थान सही ढंग से काम नहीं करते.’  

— मनमोहन सिंह, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री

मनमोहन सिंह ने यह बयान ‘प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन’ द्वारा दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में दिया है. पूर्व प्रधानमंत्री ने हाल ही में केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक (आरबीआई) व केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) जैसे संस्थानों के बीच खींचतान के हवाले से यह भी कहा, ‘अगर यही स्थिति जारी रही तो आगे चलकर हर क्षेत्र में अराजकता मच सकती है.’ इसके अलावा मनमोहन सिंह ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर पर सरकार के फैसले को एक अच्छी पहल बताया है.


‘कांग्रेस में मुझसे लड़ने की ताकत नहीं है इसलिए वे मेरी मां को गाली दे रहे हैं.’  

— नरेंद्र मोदी, भारत के प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात मध्य प्रदेश में एक रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राज बब्बर पर निशाना साधते हुए कही. उन्होंने यह भी कहा, ‘जब कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं रहा तो यह पार्टी मेरी मां को गाली दे रही है. मोदी की मां को राजनीति का ‘र’ भी नहीं मालूम.’ इसके साथ ही नरेंद्र मोदी ने प्रदेश के लोगों से कांग्रेस को ऐसा सबक सिखाने की अपील की जिससे कि इस पार्टी के नेता भविष्य में किसी की मां को राजनीति में घसीटने की हिम्मत न करें. इससे पहले राज बब्बर ने नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन की उम्र की तुलना रुपये और डॉलर के साथ करते हुए भाजपा पर निशाना साधा था.


‘अली को आप अपने पास रखें हमारे लिए बजरंग बली पर्याप्त हैं.’  

— योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ ने यह बयान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ पर निशाना साधते हुए दिया है. उनके मुताबिक, ‘बीते दिनों मैंने कमलनाथ का एक बयान पढ़ा था जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी को अनुसूचित जाति-जनजाति के वोट नहीं चाहिए. कांग्रेस सिर्फ मुसलमानों के वोट चाहती है. इसीलिए मैं कहता हूं कि कांग्रेस के लोग अली को अपने पास रखें और हमारे लिए बजरंग बली काफी हैं.’


‘भीम आर्मी और बहुजन यूथ जैसे संगठनों के लोग बहुजन समाज के लोगों को बहकाने का काम कर रहे हैं.’  

— मायावती, बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष

मायावती ने यह बयान दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिया. उनके मुताबिक भीम आर्मी और बहुजन यूथ फॉर मिशन - 2019 जैसे संगठनों के कार्यकर्ता विपक्षी दलों के इशारे पर काम कर रहे हैं. साथ ही इन संगठनों के लोग दलित बस्तियों में जाकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को मजबूत करने के नाम पर चंदा इकट्ठा करके अपनी जेबें भर रहे हैं. मायावती ने आगे कहा कि ऐसे लोगों से बसपा कार्यकर्ताओं और दलित समाज के लोगों को सावधान रहने की जरूरत है.