अगले साल 15 जनवरी से चार मार्च के बीच लगने वाले अर्द्ध कुंभ मेले के दौरान करीब 12 करोड़ श्रद्धालुओं के प्रयागराज पहुंचने की उम्मीद की जा रही है. देश के विभिन्न हिस्सों से इस मेले तक श्रद्धालुओं को पहुंचाने के लिए रेलवे ने भी तैयारियां शुरू कर दी हैं. एनडीटीवी के मुताबिक इस संबंध में उत्तर-पूर्व रेलवे के प्रयागराज स्थित मुख्यालय में हुई एक बैठक के बाद अर्द्ध कुंभ मेले के दौरान रेलवे ने 16,000 कोचों वाली 800 विशेष ट्रेनें चलाने की योजना बनाई है.

जानकारी के मुताबिक इन विशेष ट्रेनों में ‘कुंभ चलो’ के नारे के साथ संगम पर ‘नगा साधुओं’ द्वारा स्नान करती तस्वीरें लगाई जाएंगी. इसके अलावा मेला अवधि के दौरान ट्रेनों और स्टेशन परिसर में साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखा जाएगा. उत्तर-पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक राजीव चौधरी के मुताबिक, ‘अर्द्ध कुंभ की अवधि में प्रयागराज जाने वाली ट्रेनों में अतिरिक्त कोचों की व्यवस्था भी की जाएगी.’

इसके अलावा यात्रियों की सुविधाएं बढ़ाने के लिहाज से इलाहाबाद जंक्शन पर रेलवे 10 हजार श्रद्धालुओं की क्षमता वाले चार परिसरों का निर्माण भी कर रहा है. इन परिसरों में अलग से टिकट काउंटर और खान-पान की व्यवस्था भी होगी. साथ ही ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत स्टेशन के नजदीक ही सार्वजनिक शौचालय बनाए जा रहे हैं. इसके अलावा प्रयागराज के ही एक गांव के नजदीक एक अस्थायी हेलीपैड का निर्माण भी शुरू किया गया है.

उत्तर प्रदेश सरकार के आकलन के मुताबिक 15 जनवरी को मकर संक्राति, 21 जनवरी को पुष्य पूर्णिमा, चार फरवरी को मौनी अमावस्या, दस फरवरी को बसंत पंचमी, 19 फरवरी को माघी पूर्णिमा और चार मार्च को महाशिवरात्रि के मौके पर प्रयागराज पहुंचकर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या सामान्य से कहीं ज्यादा रहने की उम्मीद है.