यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने चेतावनी दी है कि उनके देश और रूस के बीच युद्ध छिड़ सकता है. उनके मुताबिक रूस ने दोनों देशों की साझा सीमा पर अपनी सेना की मौजूदगी में अचानक भारी बढ़ोतरी कर दी है. यह संकट इसलिए भी गहराता लग रहा है कि इसे लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसी हफ्ते के आखिर में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से होने वाली अपनी मुलाकात रद्द करने की चेतावनी दी है. डोनाल्ड ट्रंप को अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनर्स आयर्स में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान पुतिन से मिलना है.

इससे पहले मंगलवार को यूक्रेन की संसद ने देश के एक हिस्से में मार्शल लॉ लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने कहा कि ऐसे सीमावर्ती क्षेत्रों में 30 दिनों तक मार्शल लॉ लगाया जाएगा जहां रूस के हमले की आशंका है. इस दौरान विरोध प्रदर्शनों और हड़तालों पर प्रतिबंध लग सकता है और आम लोगों को सैन्य सेवा के लिए बुलाया सकता है.

यूक्रेन ने यह कदम रूस द्वारा उसके तीन जहाज़ों और 23 नौसैनिकों को हिरासत में लिए जाने के बाद उठाया है. यह रविवार की घटना है. रूस का आरोप है कि इन जहाजों और सैनिकों ने अवैध रूप से उसकी सीमा में प्रवेश किया था. उधर, रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने मार्शल लॉ लगाने के यूक्रेन के फ़ैसले पर गहरी चिंता जताई है. उन्होंने चेतावनी दी है कि इस फैसले से तनाव और बढ़ेगा. रूस ने 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप पर कब्ज़ा कर लिया था.