‘लोकतंत्र के लिए जरूरी है कि अपनी बात किसी दूसरे की भावनाओं को आहत किए बगैर कही जाए.’  

— राम नाइक, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल

राम नाइक का यह बयान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एक बयान पर उन्हें ‘नसीहत’ देते हुए आया है. राम नाईक के मुताबिक किसी को भी अपनी बातें विनम्रता के साथ कहनी चाहिए जो सुनने वालों को अनुकरणीय लगें. इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए ‘हनुमान’ को दलित बताया था जिसके बाद उन्हें चौतरफा आलोचनाएं झेलनी पड़ रही हैं.

‘मुझे नरेंद्र मोदी से मुलाकात करके बातचीत करने में खुशी होगी.’  

— इमरान खान, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

इमरान खान ने यह बात पाकिस्तान में अपनी सरकार के एक सौ दिन पूरे होने के मौके पर कही है. इस मौके पर भारत के साथ ‘सामान्य संबंध’ स्थापित करने की इच्छा जताते हुए उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं नहीं चाहता कि आतंकी संगठन अपनी गतिविधियों के संचालन के लिए पाकिस्तान की जमीन का इस्तेमाल करें.’ इसके साथ ही बीते दिनों भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द किए जाने को लेकर पूर्व में किए अपने ही एक ट्वीट पर स्पष्टीकरण देते हुए इमरान खान ने आगे कहा कि उस ट्वीट में उनका इशारा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ नहीं था. उस ट्वीट में इमरान खान ने लिखा था, ‘ऊंचे ओहदों पर छोटी सोच वाले लोग बैठे हुए हैं.’


‘भगवान हनुमान दलित नहीं बल्कि आदिवासी हैं.’  

— नंद कुमार साय, अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष

नंद कुमार साय ने यह बात लखनऊ में एक कार्यक्रम के दौरान कही. उनके मुताबिक जनजातियों में हनुमान एक गोत्र होता है. इसके साथ ही नंद कुमार साय ने आगे कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि जिस जंगल में भगवान राम ने एक बड़ी सेना का संधान किया उसमें जनजातियों के भी काफी लोग शामिल रहे होंगे.’ इससे पहले हनुमान को लेकर योगी आदित्यनाथ भी एक विवादित बयान दे चुके हैं.


‘मैं एक भारतीय हूं और हमेशा भारत का साथ देता रहूंगा.’  

— उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री

उमर अब्दुल्ला का यह बयान जम्मू-कश्मीर के ताजा हालात पर आया है. उनके मुताबिक राज्य के हालात अनुकूल नहीं हैं जिसके लिए नई दिल्ली से लेकर इस्लामाबाद तक सभी जिम्मेदार हैं. उमर अब्दुल्ला ने यह भी कहा, ‘हाल में नॉर्वे के पूर्व प्रधानमंत्री ने कश्मीर आकर यहां के अलगाववादी नेताओं से बातचीत की थी. अगर केंद्र सरकार इन्हें बातचीत के लिए एक मेज पर लाने में कामयाब हो जाती है तो इसका सभी को एक साथ मिलकर स्वागत करना चाहिए.’


‘मुसलमानों ने जिन नेताओं और पार्टियों का समर्थन किया उन्होंने ही उन्हें हाशिये पर पहुंचा दिया है.’  

— चंद्रशेखर, भीम आर्मी के प्रमुख

चंद्रशेखर का यह बयान आगामी आम चुनाव के दौरान बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के लिए मुस्लिम वर्ग का समर्थन जुटाने की कोशिश करते हुए आया है. उनके मुताबिक देश के रहनुमाओं के हाथों मुसलमान सिर्फ ठगे गए हैं, ऐसे में उन्हें समझना होगा कि उनका हित किसके साथ है. चंद्रशेखर ने आगे कहा कि अपने हितों की रक्षा के लिए मुसलमानों, दलितों और अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को एकजुट होना होगा तभी वे एक बड़ी ताकत के रूप में उभर सकेंगे.


‘क्या यूनुस खान के लिए योगी आदित्यनाथ वोट मांगने आएंगे?’  

— सचिन पायलट, कांग्रेस के नेता

सचिन पायलट का यह बयान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए आया है. इसके साथ ही सचिन पायलट ने सवालिया लहजे में यह भी कहा है कि योगी आदित्यनाथ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रचार के लिए राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में जा रहे हैं. लेकिन क्या वे प्रदेश में भाजपा के एकमात्र मुस्लिम प्रत्याशी के लिए वोट मांगने की खातिर टोंक विधानसभा क्षेत्र में भी आएंगे. योगी आदित्यनाथ को भाजपा के स्टार प्रचारकों में गिना जाता है साथ ही उन पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के जरिए हिंदू वोटों को लुभाने के आरोप भी लगते रहे हैं.