राजस्थान विधानसभा चुनाव का मतदान होने में अब सिर्फ तीन ही दिन रह गए हैं. शुक्रवार को राज्य के मतदाता वोट देकर तय कर देंगे कि इस बार वे कांग्रेस को सत्ता में लाएंगे या वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार की वापसी कराएंगे. 11 दिसम्बर को परिणामों की घोषणा होगी. इससे पहले, एक ओर जहां पूरे राजस्थान में भाजपा और कांग्रेस ज़ोरदार रैलियां व रोड शो कर रही हैं, वहीं उनके नेता न्यूज़ चैनलों की बहसों में और सोशल मीडिया पर तमाम तरह के दावे कर रहे हैं.

कुछ दिन पहले कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर एक दावा किया था. एक चैनल की बहस में वे किसी वीडियो का हवाला देते हुए कह रहे थे, ‘...वसुंधरा राजे जी की एक क्लिप आई है. वे अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रही थीं. उसमें उन्होंने कहा कि सबको इतना उलझा दो कि कोई हमसे ये न पूछे कि सड़क क्यों नहीं बनी, पानी क्यों नहीं है, नौकरी क्यों नहीं है, लोग पिट क्यों रहे हैं, किसान लाचार-परेशान क्यों हैं. हम सबको उलझाकर भ्रमित कर लेंगे. जब प्रदेश की मुख्यमंत्री कार्यकर्ताओं की बैठक में भ्रमित कर, लोगों को बहकाकर, ऐसी बात कह रही हैं तो यह हार की निशानी है.’

रणदीप सुरजेवाला ने बीते 29 नवम्बर को अपने ट्विटर हैंडल से भी यह दावा किया था. यह रिपोर्ट लिखे जाने तक उनका ट्वीट हटाया नहीं गया था. हालांकि जिस वीडियो के हवाले से उन्होंने यह दावा किया था, उसका पूरा सच जानने के बाद शायद वे अपना ट्वीट हटा लें.

यह आधा-अधूरा वीडियो यूट्यूब पर अपलोड किया गया है. इसमें वसुंधरा राजे कह रही हैं, ‘...उतने ही वोट हमको मिलेंगे, क्योंकि लोगों को समय नहीं मिलेगा हमसे पूछने का कि हमको नौकरी क्यों नहीं मिली, पानी क्यों नहीं मिला, सड़क क्यों नहीं बनीं, क्योंकि वो अपने दुख में इतने घुटे हुए होंगे.’

Play
वायरल वीडियो

इसे सुनने में लगता है मानो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पार्टी के कार्यकर्ताओं को कोई ‘रणनीति’ समझा रही हैं, जिसके तहत उन्हें मतदाताओं को इस तरह उलझाना है कि वे बुनियादी मुद्दे भूलकर भाजपा को वोट करें. संभव है कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने यही समझा और न्यूज़ चैनल और ट्विटर पर इसे दोहरा दिया. हालांकि सच्चाई कुछ और है.

इस वीडियो में वसुंधरा राजे हरे रंग की साड़ी पहने हुए दिख रही हैं. हमने इस आधार पर सोशल मीडिया पर वीडियो खोजना शुरू किया. इस दौरान पता चला कि ट्विटर पर कई लोगों (जिनमें भाजपा समर्थक शामिल हैं) ने यह वीडियो पूरे संदर्भ के साथ शेयर किया है. इसमें राजस्थान की मुख्यमंत्री कह रही हैं, ‘भाजपा ने वाक़ई में ग़रीबी हटाने का काम किया. ये कांग्रेस पार्टी 50 साल से ग़रीबी हटाने का नारा दे रही है, (लेकिन) आज तक ग़रीबी मिटाने का कोई काम नहीं किया. और जब इनसे पूछो तो ये कहते हैं कि ग़रीबी को मिटाना नहीं है. जितनी ग़रीबी हम करेंगे, उतना ही हमको फ़ायदा मिलेगा. उतने ही वोट हमको मिलेंगे, क्योंकि लोगों को समय नहीं मिलेगा हमसे पूछने का कि हमको नौकरी क्यों नहीं मिली, पानी क्यों नहीं मिला, सड़क क्यों नहीं बनीं, क्योंकि वो अपने दुख में इतने घुटे हुए होंगे.

इस वायरल वीडियो का कुछ सेकंड पहले का हिस्सा देखने पर साफ़ हो जाता है कि वसुंधरा राजे किस संदर्भ में यह बात कह रही थीं. इसके बाद यह भी स्पष्ट है कि कांग्रेस प्रवक्ता ने एक अधूरे वीडियो में कही गईं बातों पर यक़ीन कर दावा कर दिया कि मुख्यमंत्री कार्यकर्ताओं को लोगों को बहकाने की रणनीति समझा रही हैं. जबकि सच तो यह है कि वसुंधरा राजे कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगा रही थीं कि वह लोगों को भ्रमित या उलझाने का काम करती है. बहरहाल, रणदीप सुरजेवाला अगर इस वीडियो को पूरा देखते तो शायद इसे लेकर किसी तरह का दावा नहीं करते. आप इस पूरे वीडियो को नीचे देख सकते हैं.

Play