अगले साल होने वाले आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को केंद्र की सत्ता से बेदखल करने के लिए विपक्षी दल महागठबंधन की कवायद में जुटे हुए हैं. एनडीटीवी के मुताबिक इस महागठबंधन को मूर्त रूप देने के लिए विपक्षी दल पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने और संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से एक दिन पहले यानी 10 दिसंबर को दिल्ली में एक बैठक करने जा रहे हैं. इस बैठक में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) के नेता फारुक अब्दुल्ला, पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव सहित कई अन्य दलों के नेताओं के हिस्सा लेने की संभावना जताई जा रही है.

विपक्षी दल नरेंद्र मोदी सरकार पर काफी समय से लोक विरोधी नीतियों के आरोप लगा रहे हैं. उनका यह भी आरोप है कि सरकार रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया (आरबीआई), केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के अलावा इनकम टैक्स जैसी संस्थाओं को नुकसान पहुंचा रही है. 10 दिसंबर को होने वाली बैठक में इस पर भी चर्चा होने की संभावना है. साथ ही इसमें नोटबंदी, खेती-किसानी के हाल और रफाल विमान सौदे जैसे मुद्दों पर भी बातचीत हो सकती है.

इससे पहले बीते महीने महागठबंधन को लेकर इन दलों की एक बैठक होने वाली थी. लेकिन पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के मद्देनजर उसे टाल दिया गया था. हालांकि बीते हफ्ते किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल सहित भाजपा विरोधी कई दूसरे नेता एक साथ एक ही मंच पर दिखाई दिए थे.