उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में सोमवार को गौहत्या के शक में मचे बवाल में एक पुलिस इंस्पेक्टर सहित दो लोगों की मौत हो गई. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. बताया जाता है कि उग्र भीड़ ने स्याना थाने के इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की पीट-पीटकर हत्या कर दी. साथ ही, पुलिस पर पथराव भी किया. उसने कई वाहनों और चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी. पुलिस ने इस मामले में 27 नामजद और 60 अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया है. राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इस मामले की जांच के आदेश भी दिए हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने फर्जी मुठभेड़ों पर गुजरात सरकार से जवाब मांगा

सुप्रीम कोर्ट ने फर्जी मुठभेड़ाें के मामले में निगरानी करने वाली समिति की अंतरिम रिपोर्ट पर गुजरात सरकार से जवाब तलब किया है. समिति ने साल 2002 से 2006 के बीच हुई मुठभेड़ाें पर अपनी रिपोर्ट सौंपी है. गुजरात सरकार ने इस रिपोर्ट पर जवाब देने के लिए वक्त की मांग की है. इसके बाद शीर्ष अदालत ने इसके लिए एक हफ्ते का वक्त दिया है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक याचिकाकर्ताओं की ओर से प्रशांत भूषण ने मांग की है कि इस मामले पर आखिरी सुनवाई होनी चाहिए. इससे पहले साल 2007 में गीतकार जावेद अख्तर और पत्रकार बीजी वर्गीस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. इसमें इन मामलों की जांच स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग की गई थी.

महाराष्ट्र : मराठा आरक्षण को हाई कोर्ट में चुनौती

महाराष्ट्र में मराठा समुदाय को शिक्षा और सरकारी नौकरियों में 16 फीसदी आरक्षण देने के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है. हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक अदालत में इसके खिलाफ दायर याचिका में मराठा आरक्षण को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन बताया गया है. वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने भी हाई कोर्ट में कहा है कि इस संबंध में यदि किसी याचिका को स्वीकार किया जाता है तो उसे भी सुनवाई में शामिल किया जाए. बीते हफ्ते महाराष्ट्र विधानसभा में मराठा आरक्षण संबंधी विधेयक पारित किया गया था.

फ्रांस : हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद भी सरकार का आपातकाल लगाने से इंकार

तेल की बढ़ी कीमतों के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए भी फ्रांस की सरकार ने फिलहाल आपातकाल लगाने की संभावनाओं से इंकार कर दिया है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक गृह उपमंत्री लॉरें नुनेज ने सोमवार को इसकी जानकारी दी. उन्होंने शनिवार को हो रहे तीसरे दौर के विरोध प्रदर्शन को भी रोकने की बात कही है. इससे पहले रविवार को राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने पेरिस में हुई हिंसा के बाद अहम बैठक की थी. तब से देश में आपातकाल लगाए जाने की अटकलें थीं.