केंद्र सरकार ने दुर्गम स्थानों पर तैनात सैन्यकर्मियों की वेतन बढ़ाए जाने से संबंधित मांग को खारिज कर दिया है. दुर्गम स्थानों पर तैनात जवान, जूनियर कमांडिंग ऑफिसर (जेसीओ) और समान रैंक के नौसेना और वायुसेना के सैन्यकर्मी मिलिट्री सर्विस पे (एमएसपी) बढ़ाए जाने की मांग कर रहे थे. यह मांग काफी समय से वित्त मंत्रालय में लंबित पड़ी थी जिसे मंगलवार को खारिज कर दिया गया. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार के इस फैसले से करीब एक लाख सैन्यकर्मियों को झटका लगा है. इन सैनिकों में 87,646 जेसीओ और 25,434 नौसेना और वायुसेना के सैन्यकर्मी हैं.

अखबार ने पीटीआई के हवाले से बताया है कि सेना के अधिकारी सरकार के फैसले से नाखुश हैं और उन्होंने केंद्र सरकार से इस फैसले की फिर से समीक्षा करने की मांग की है. सैन्यकर्मियों को एमएसपी दुर्गम स्थानों में तैनाती के दौरान दिया जाता है. मौजूदा वक्त में एसएसपी की दो श्रेणी हैं - एक अधिकारियों के लिए और दूसरा जेसीओं व जवानों के लिए.