तेलंगाना पुलिस ने राज्य विधानसभा के लिए होने वाले मतदान से तीन दिन पहले 5.80 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की है. एनडीटीवी के मुताबिक इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है जिनकी पहचान के कुमार जैन, राम और पारसनाथ के तौर पर बताई गई है. मंगलवार को जब्त की गई इस रकम के साथ ही तेलंगाना विधानसभा चुनाव के दौरान जब्त किए गए काले धन का आंकड़ा 118 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है.

उधर, तेलंगाना पुलिस के आयुक्त वी रविंद्र ने कहा है कि मंगलवार को जब्त की गई रकम एक कार के जरिये ले जाई जा रही थी. इस नकदी को कार की सीटों में छुपाया गया था. कथित तौर पर यह पैसा इसी विधानसभा चुनाव के तीन प्रत्याशियों नमा नागेश्वर राव (तेलुगु देशम पार्टी), वद्दीराजू रविचंद्रू (कांग्रेस) और कोंडा मुरली के बीच बांटा जाना था. पुलिस का मानना है कि यह पैसा कीर्ति कुमार नाम के शख्स की तरफ से भेजा गया था. इस लेन-देन में उसकी भूमिका की फिलहाल जांच की जा रही है.

इससे पहले बीते महीने की सात तारीख को भी तेलंगाना पुलिस ने सामूहिक कार्रवाई करते हुए राज्य के चार अलग-अलग इलाकों से करीब साढ़े सात करोड़ रुपये का काला धन जब्त किया था. तब इस मामले में एक हवाला संचालक को गिरफ्तार भी किया गया था. इसके अलावा इसी हफ्ते वारंगल इलाके से भी पुलिस ने छह करोड़ रुपये की नकदी बरामद की थी.

दिलचस्प बात यह है कि बीते हफ्ते ही पद से सेवानिवृत्त हुए पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने सोमवार को कहा था​ कि चुनावों के दौरान पहले से ही काले धन का इस्तेमाल होता रहा है और नोटबंदी के बावजूद इसका इस्तेमाल कम नहीं हुआ है. इसके अलावा पांच राज्यों के मौजूदा विधानसभा चुनाव से वहां के पूर्व चुनावों की तुलना करते हुए उनका यह भी कहना था कि इस बार यहां पहले के मुकाबले ज्यादा काला धन जब्त किया गया है.