अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे के मामले में भारतीय जांच एजेंसियों को बड़ी कामयाबी मिली है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस सौदे के कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाने का रास्ता साफ हो गया है और मंगलवार की रात उसे संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दुबई से भारत भेजा जाएगा. इस समय वह दुबई पुलिस की हिरासत में है. इससे पहले बीते महीने दुबई की एक निचली अदालत ने किश्चियन मिशेल के प्रत्यर्पण को मंजूरी दी थी. क्रिश्चियन मिशेल की तरफ से चुनौती दिए जाने के बाद ऊपरी अदालत ने भी निचली अदालत के उस आदेश को सही ठहराया था.

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय ने जांच के बाद 2016 में क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था. साथ ही 2017 में यूएई से उसे भारत प्रत्यर्पित किए जाने की मांग की थी.

इससे पहले साल 2010 में केंद्र की तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार ने एंग्लो-इटैलियन कंपनी फिनमिकैनिका के साथ 12 हेलीकॉप्टरों की खरीद के सौदे को मंजूरी दी थी. हालांकि 3600 करोड़ रुपये के उस सौदे में रिश्वतखोरी के आरोप सामने आने के बाद 2014 में केंद्र की मौजूदा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार ने उस सौदे को रद्द कर दिया था. इस सौदे में भारतीय वायुसेना के पूर्व प्रमुख एसपी त्यागी सहित कई अन्य सैन्य अधिकारियों और बड़े नेताओं पर भी घूस लेने के आरोप हैं.