राजस्थान में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए दोबारा सत्ता में आने का दावा किया. बुधवार को जयपुर में उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टीकरण जैसे अपने परंपरागत मुद्दों पर चुनाव लड़ने का प्रयास किया है जबकि भाजपा ने राजस्थान का विकास, भविष्य और गरीब कल्याण के मुद्दों पर बात की है.

अमित शाह ने कांग्रेस पर जाति और धर्म की राजनीति करने का आरोप भी लगाया. उना कहना था, ‘कांग्रेस ने राजस्थान में भी जाति और धर्म की पॉलिटिक्स को आगे बढ़ाने का प्रयास किया. कांग्रेस ने धर्म के नाम पर वोट मांगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अपशब्द प्रयोग किए. कांग्रेस की स्थिति नेता तय कर पाने तक भी नहीं पहुंची है, हर जिले में एक एक नेता खुद को सीएम उम्मीदवार बताकर वोट मांग रहे है. लेकिन राज्य के लोग अच्छी तरह जानते हैं कि कांग्रेस के पास न नीति है और न नेता है.’

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा को अमित शाह ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने कहा, ‘यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. सीएम योगी ने इसकी जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया है. अधिकारी इसकी जांच कर रहे हैं. इसे राजनीतिक रंग देना मेरे हिसाब से उचित नहीं है, जो कि कांग्रेस कर रही है. एसआईटी की रिपोर्ट में दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा.’