केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और उनके डिप्टी राकेश अस्थाना के बीच मचे घमासान ने अभूतपूर्व और असाधारण स्थिति उत्पन्न कर दी थी.

द टाइम्स ऑफ इंडिया कि रिपोर्ट के मुताबिक सरकार का पक्ष रखते हुए अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को बताया कि दोनों अधिकारियों के बीच हुई लड़ाई से सीबीआई की छवि को नुकसान पहुंचा है. इस दौरान केके वेणुगोपाल का यह भी कहना था, ‘सीबीआई के दोनों शीर्ष अधिकारियों के बीच लड़ाई आम लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गई थी. केंद्र सरकार इस मामले पर नजर बनाए हुए थी. दोनों ही बिल्लियों की तरह लड़ रहे थे.’

समाचार एजेंसी एएनआई को मुताबिक, कोर्ट ने केके वेणुगोपाल से पूछा कि उनके पास कौन से सबूत हैं जिससे पता चलता है कि आलोक वर्मा अपनी लड़ाई को जनता के बीच ले जाने वाले हैं. इसके बाद केके वेणुगोपाल ने कोर्ट को अखबारों में छपी खबरों की कतरन सौंपते हुए कहा, ‘सीबीआई में जनता का विश्वास बनाए रखने के लिए सरकार की तरफ से कार्रवाई बेहद जरूरी थी. ऐसी स्थिति आ गई थी कि केंद्र सरकार को दखल देना पड़ा. इस मामले की सावधानीपूर्वक जांच करने के बाद केंद्र सरकार ने सीबीआई निदेशक को छुट्टी पर भेजने का फैसला किया.’

केंद्र सरकार के हस्तक्षेप को जायज बताते हुए वेणुगोपाल ने कोर्ट से कहा कि दोनों अधिकारियों के बीच मचे घमासान को रोकने के लिए केंद्र का दखल देना जरूरी हो गया था. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 29 नवंबर को कहा था कि वह पहले यह देखेगा कि क्या सरकार के पास किसी भी परिस्थिति में सीबीआई के निदेशक को उसके कर्तव्यों से दूर रखने की शक्ति है या भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे आलोक वर्मा के खिलाफ कार्रवाई करने से पहले प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में चयन समिति से संपर्क किया जाना चाहिए था.

आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी थी कि उनकी नियुक्ति दो साल के लिए की गयी थी और इसमें न बदलाव किया जा सकता है और न ही उनका तबादला किया जा सकता है. इस पर मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा था, ‘हम आरोप-प्रत्यारोपों में नहीं जा रहे हैं. हम इस मामले की जांच विशुद्ध रूप से कानून के लिहाज से कर रहे हैं.’ आलोक वर्मा का कार्यकाल 31 जनवरी को समाप्त हो रहा है.