बुलंदशहर मामले में मुख्य आरोपित योगेश राज ने वीडियो जारी कर खुद को निर्दोष बताया है. इस खबर को आज के कई अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. योगेश ने दावा किया है कि वह सोमवार को घटनास्थल पर मौजूद नहीं था. वहीं, पुलिस अब तक फरार मुख्य आरोपित को न तो गिरफ्तार कर पाई है और न ही किसी संगठन से उसके जुड़े होने की बात सामने आई है. वहीं, योगेश राज का कहना है कि वह बुलंदशहर बजरंग दल का संयोजक है. हालांकि उसने बजरंग दल के इस मामले में शामिल होने को भी खारिज किया है.

गंगा सफाई के लिए अनशन कर रहे संत गोपालदास एम्स से गायब

गंगा सफाई के लिए अनशन कर रहे संत गोपालदास मंगलवार से नई दिल्ली स्थित एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) से गायब हैं. उनके पिता शमशेर ने इस बात की जानकारी दिल्ली पुलिस को दी है. हिंदुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक पुलिस ने इस शिकायत पर कार्रवाई किए जाने की बात कही है. वहीं, संत गोपालदास के परिजनों ने केंद्र की मोदी सरकार पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं. इसमें कहा गया है कि राजनीतिक नुकसान को रोकने की गरज से उन्हें गायब किया गया है. संत गोपालदास गंगा की सफाई के लिए 116 दिनों से आमरण अनशन कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली समूह की संपत्तियों को अटैच कर बेचने का आदेश दिया

सुप्रीम कोर्ट ने पूरे देश में स्थित आम्रपाली समूह के मॉल, सिनेमा हॉल और फाइवस्टार होटलों सहित अन्य संपत्ति को अटैच कर बेचने का आदेश दिया है. समूह के निदेशकों के नाम पर दर्ज 86 कारें भी जब्त करने का आदेश दिया है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक शीर्ष अदालत ने कहा है कि समूह ने खरीदारों के पैसे से जो भी संपत्ति बनाई है, उसे बेचा जाएगा. न्यायालय ने निदेशकों को नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों न उनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज किए जाएं. समूह के निदेशकों ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर माना है कि उन्होंने खरीदारों के 2,996 करोड़ रुपए के फंड को अपनी दूसरी कंपनियों में ट्रांसफर किया. इस मामले की अगली सुनवाई गुरुवार को होनी है.

चर्चित लेखिका चित्रा मुद्गल को साल 2018 का प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार

चर्चित लेखिका चित्रा मुद्गल को साल 2018 के प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा जाएगा. अमर उजाला के पहले पन्ने पर प्रकाशित खबर के मुताबिक यह सम्मान उन्हें उनकी कृति ‘पोस्ट बॉक्स नंबर-203 नाला सोपारा’ के लिए मिला है. इसमें उन्होंने तीसरे लिंग के प्रति समाज की दकियानूसी मानसिकता का विरोध किया है. इसके अलावा साहित्य अकादमी ने हिंदी के अलावा अन्य 23 भाषाओं के लिए भी इस सम्मान का ऐलान किया है. इन सभी को 29 जनवरी, 2019 को खिताब से नवाजा जाएगा.