उत्तर प्रदेश के बहराइच से भाजपा की सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई ने कुछ देर पहले यह खबर दी. मिल रही जानकारी के मुताबिक सावित्री बाई फुले ने ‘भाजपा द्वारा समाज को बांटने के प्रयास’ को अपने इस्तीफे की वजह बताया है.

हाल में अपने बयानों से सावित्री बाई फुले भाजपा के लिए मुश्किलें खड़ी करती रही हैं. कुछ ही दिन पहले उन्होंने हिंदू भगवान हनुमान को दलित और मनुवादियों का गुलाम बताया था. उन्होंने ऐसा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था जिसमें योगी ने हनुमान को ‘दलित और वंचित’ बताया था.

इससे पहले अयोध्या में राम मंदिर बनाने की मांग तेज होने के बीच सावित्री बाई फुले ने कहा था कि विवादित स्थल पर राम का नहीं, बल्कि भगवान बुद्ध का मंदिर बनना चाहिए. पिछले दिनों उन्होंने राम मंदिर मुद्दे को तीन प्रतिशत ब्राह्मणों की ‘कमाई का धंधा’ तक करार दिया था. इसके अलावा फुले भाजपा के राज में आरक्षण खत्म करने की साजिश चलने का आरोप भी लगा चुकी हैं.