‘ओ गॉड, वन मोर रीमिक्स,’ गाने का शुरूआती म्यूजिक बजते ही करण जौहर आपको यह लाइन कहते दिखाई देते हैं. इसके बाद जो गाना बजता है, उसके बारे में डंके की चोट पर यह कहा जा सकता है कि क्रिसमस और नए साल की पार्टियों में यह डिमांड में रहने वाला है. नब्बे के दशक की हिट फिल्म ‘तेरे-मेरे सपने’ के बेहद पॉपुलर गाने ‘आंख मारे’ का यह रीमिक्स इस महीने के आखिर में रिलीज हो रही ‘सिम्बा’ में रखा गया है.

करण जौहर की उद्घोषणा से इतर भी यह गाना मानो कहता है कि ‘रीमिक्स का रोना छोड़ो, मेरे मजे लो!’ ‘सिम्बा’ के लिए आनंद बख्शी के लिखे बोलों को शब्बीर अहमद ने दोबारा लिखा है. इसके बारे में थोड़ी हिम्मत करके कहा जा सकता है कि यह पुराने वालों बेहतर हैं. संगीत और आवाजें निश्चित रूप से विजू शाह और कुमार सानू-कविता कृष्णमूर्ति की ही कमाल की थीं मगर फिर भी कहना चाहिए कि मीका सिंह की आवाज ने इसे पार्टी सॉन्ग बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. अगर कुछ खटकता है तो वह हैं नेहा कक्कड़, उनकी जगह अगर सुनिधि चौहान या श्रेया घोषाल जैसी कोई और आवाज होती तो शायद इसका जादू और खरा हो सकता था. सबको नहीं लेकिन कुछ लोगों को कक्कड़ की आवाज में मौजूद जरूरत से ज्यादा अभिनय थोड़ा ज्यादा लग सकता है. बाकी, गाने में तुषार कपूर की मौजूदगी, एक जबरदस्त ठहाके और कुमार सानू की आवाज में एक लाइन नॉस्टैल्जिया जगाने के लिए काफी होने वाली है.

Play

संगीत से इतर भी इस गाने की अपनी कुछ खासियतें हैं. उदाहरण के लिए साल 1996 में रिलीज हुई ‘तेरे-मेरे सपने’ से जाने-माने अभिनेता अभिनेता अरशद वारसी ने डेब्यू किया था, वहीं इस फिल्म से सारा अली खान भी एक तरह से डेब्यू ही कर रही हैं. इसके अलावा, यह भी दिलचस्प है कि ‘आंख मारे’ वाले अंदाज के कई गाने जैसे – ‘ओले-ओले,’ ‘मैं खिलाड़ी- तू अनाड़ी,’ ‘ज़रा-ज़रा’ वगैरह पर थिरक कर एक समय सैफ अली खान इंडस्ट्री में अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहे थे. अब उनके जमाने के गाने के साथ, उनकी बेटी सारा अली खान भी पहली बार नाचते हुए लोगों तक पहुंची हैं. इस गाने को देखने के उनके बारे में निश्चत रूप से कहा जा सकता है कि वे एक्टर कैसी भी होने वाली हों, परफॉर्मर कमाल की साबित हो सकती हैं. बाकी इस मामले में रणवीर सिंह तो आलटाइम फेवरेट हैं ही!

Play