कांग्रेस पार्टी के लाेक सभा सदस्य मौलाना असरारुल हक़ क़ासमी का शुक्रवार को निधन हो गया. वे 76 वर्ष के थे. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उन्हें दिल का दौरा पड़ा था. निधन के वक़्त वे बिहार के किशनगंज जिले में स्थित अपने गांव के घर पर ही थे.

असरारुल हक़ क़ासमी बिहार की किशनगंज सीट से कांग्रेस के टिकट पर 2009 और 2014 में लोक सभा सदस्य चुने गए थे. वे जमायत उलेमा-ए-हिंद के प्रदेश अध्यक्ष और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल बोर्ड के सदस्य रह चुके थे. उन्होंने किशगंज में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का केंद्र खुलवाने में भी अहम भूमिका निभाई थी. उनके परिवार में दो बेटे और तीन बेटियां हैं.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि क़ासमी का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा. क़ासमी के निधन पर नीतीश कुमार, राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव सहित तमाम बड़े नेताओं ने शोक जताया है. इन नेताओं के मुताबिक, ‘क़ासमी के निधन के साथ बिहार ने एक समर्पित सांसद खो दिया है.’