पांच राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिज़ोरम) के चुनाव पूरे हुए. इसके बाद अगले साल होने वाले लोक सभा चुनाव की तैयारी शुरू. इस तैयारी के लिहाज़ से साेमवार से शुरू हो रहा संसद का आगामी शीतकालीन सत्र काफ़ी अहम होने वाला है. इसमें दिलचस्प बात ये भी कि सत्र शुरू होने के अगले ही दिन 11 दिसंबर को पांच राज्यों के चुनाव नतीज़े भी आएंगे. यानी ये वो पड़ाव बनेगा जब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार, सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और उसके नेतृत्व वाला एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) और विपक्षी पार्टियां अपनी-अपनी रणनीति को लगभग अंतिम रूप देती दिखाई देंगी. और हिंदुस्तान टाइम्स की मानें तो कम से कम मोदी सरकार और भाजपा-एनडीए के लिए इस सत्र में तीन तलाक़ विधेयक उनकीा आगामी चुनावी रणनीति का अहम हिस्सा बनने वाला है.

अख़बार के मुताबिक मोदी सरकार और सत्ताधानी गठबंधन इसकी पूरी कोशिश कर सकता है कि इस सत्र में तीन तलाक़ विधेयक संसद से पारित हाे जाए. क्योंकि भाजपा आगामी चुनाव में इसका सियासी लाभ लेने का मंसूबा बांध रही है. फिलहाल इस कानून को सरकार ने अध्यादेश के ज़रिए लागू कर रखा है. इसके जरिए मुस्लिम समुदाय में प्रचलित तीन तलाक़ की परंपरा को अपराध का दर्ज़ा दे गया है. हालांकि विपक्ष के कई दल इस कानून के मौज़ूदा कई प्रावधानों पर सहमत नहीं हैं.

यही कारण है कि संसद से तीन तलाक़ विधेयक पारित कराने में अब तक मोदी सरकार को सफलता नहीं मिल सकी है. और इस बार मिलेगी, यह भी पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता. क्योंकि कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों ने रफाल लड़ाकू विमानों के सौदे के मुद्दे पर संसद में संघर्ष की तैयारी कर रखी है. इसकी वज़ह भी साफ़ ये है कि विपक्षी दलों को रफाल मुद्दे से उसी तरह के सियासी-चुनावी लाभ की उम्मीद है, जैसी मोदी सरकार और भाजपा-एनडीए को तीन तलाक़ विधेयक से है.

यानी ये शीतकालीन सत्र ठंडा तो बिल्कुल नहीं रहने वाला है. हालांकि नए संसदीय कार्यमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने उम्मीदें पूरी बांध रखी हैं. उनके मुताबिक, ‘सत्ताधारी गठबंधन के साथ विपक्षी दल भी समझते हैं कि अहम मसलों पर चर्चा और फ़ैसले के लिए संसद सबसे अहम मंच है. और यह संभव तभी हो पाएगा जब संसद चले. इसीलिए हमें यक़ीन है कि हमें विपक्ष का पूरा सहयोग मिलेगा. रही बात पांच राज्यों के चुनाव नतीज़ों की ताे यह राज्यों का मसला है. इसका संसद पर असर नहीं होगा.’