जम्मू और कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा चलाए गए आतंक-विरोधी अभियानों में इस साल अब तक 232 आतंकवादियों को मारा जा चुका है. वहीं घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में घायल होने वालों की संख्या में भी कमी आई है. द इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में सरकारी अधिकारियों के हवाले से बताया है कि 25 जून से 14 सितंबर तक 80 दिनों में 51 आतंकवादी मारे गए थे, जबकि 15 सितंबर और पांच दिसंबर के दौरान भारतीय सुरक्षा बलों ने 85 आतंकवादी मार गिराए हैं. रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि कश्मीर घाटी में अब भी करीब 240 आतंकी सक्रिय हैं जिनमें पाकिस्तानी भी शामिल हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल 25 जून से 14 सितंबर के दौरान हुई पत्थरबाजी की घटनाओं में सुरक्षा बलों समेत कुल आठ लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ी तो करीब 216 लोग घायल हो गए थे. वहीं, 15 सितंबर से पांच दिसंबर तक हुई पत्थरबाजी की घटनाओं के दौरान दो लोगों की मौत हुई और 170 लोग घायल हुए थे. एक अधिकारी के मुताबिक जम्मू और कश्मीर में 19 जून को राज्यपाल शासन लागू किए जाने के बाद से कश्मीर घाटी की सुरक्षा व्यवस्था में उल्लेखनीय सुधार आया है. जम्मू और कश्मीर में भारतीय जानता पार्टी (भाजपा) द्वारा महबूबा मुफ्ती की अगुवाई वाली सरकार से समर्थन वापस लिए जाने के बाद से पिछले छह महीने से राज्य में राज्यपाल शासन लागू है.